ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
विश्व पर्यावरण दिवस पर विशेष रिपोर्ट
June 5, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • विशेष


आशना श्रीवास्तव / अंजली श्रीवास्तव / आरूष श्रीवास्तव

न्यूज आफ फतेहपुर

पर्यावरण दो शब्दों से मिलकर बना है-परी+आवरण। "परी" जो हमारे चारों ओर हैं,"आवरण"जो हमें चारों ओर से घेरे हैं।पर्यावरण उन सभी भौतिक, रसायनिक एवं जैविक कारको की समृद्धिगत इकाई है जो किसी जीवधारी अथवा  आबादी को प्रभावित करते हैं तथा उनके रूप जीवन और जीविता को तय करते हैं। सामान्य अर्थो मैं यह हमारी जीवन को प्रभावित करते वाले सभी जैविक और अजैविक तत्वों, तथ्यों प्रक्रियाओं और घटनाओं  के समुच्चय से निर्मित इकाई है। यह हमारे चारों ओर व्यापक है और हमारे जीवन की प्रत्येक घटना इसी के अंदर  संपादित होती हैं होती है तथा हम मनुष्य अपनी समस्त क्रियाओं से इस पर्यावरण को भी प्रभावित करते हैं। इस प्रकार एक जीवधारी और उसके पर्यावरण के बीच संबंध भी होता है।
पर्यावरण  जैविक में सूक्ष्म जीवाणु से लेकर कीड़े मकोड़े सभी जीव-जंतुओं और पेड़-पौधों आ जाते हैं और   इसके साथ ही उनसे जुड़ी सारी जेव क्रियाएं और  प्रक्रियाएं भी। अजैविक  सघटको मैं जीवनरहित तत्व और उनसे जुड़ी प्रक्रियाएं आती है, जैसे चटाने ,पर्वत, नदी ,हवा और जलवायु के तत्व इत्यादि।
परिचय  -
सामान्यता: पर्यावरण को मनुष्य के संदर्भ में परिभाषित किया जाता है और मनुष्य को एक अलग इकाई और उसके चारों ओर व्याप्त  अन्य समस्त चीजों को उसके पर्यावरण से अलग नहीं मानती और उनकी नजर में समस्त  प्रकृति एक ही इकाई है। जिसका मनुष्य भी एक हिस्सा है।
वस्तुतः मनुष्य को पर्यावरण से अलग मानने वाले वे हैं जो तकनीकी रूप से विकसित है और विज्ञान और तकनीक के व्यापक प्रयोग से अपनी प्राकृतिक दशाओं में काफी बदलाव लाने में समर्थ हैं
मनुष्य हस्तक्षेप के आधार पर पर्यावरण को 2 प्रखंडों में विभाजित किया जाता है- प्राकृतिक या नैसर्गिक पर्यावरण और मानव निर्मित पर्यावरण। हालांकि पूर्ण रूप से  प्राकृतिक पर्यावरण या पूर्ण रूप मानव निर्मित पर्यावरण कहीं नहीं पाए जाते। यह विभाजन प्राकृतिक प्रक्रियाओं और दशाओं में मानव हस्तक्षेप की मात्रा की अधिकता और न्यूनता का घोतक मात्र है। परिस्थिति की ओर पर्यावरण भूगोल में प्राकृतिक पर्यावरण शब्द का प्रयोग पर्यावास के लिए भी होता है।
स्लोगन:चलो इस धरती को रहने योग्य बनाए, सभी मिलकर विश्व पर्यावरण दिवस मनाएं।