ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
विकलांग के प्लाट में रिश्तेदार ने किया कब्जा और बनवाया शहरी आवास
October 9, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

विकलांग के प्लाट में रिश्तेदार ने किया कब्जा और बनवाया शहरी आवास

पीड़ित दंपत्ति ने प्लाट खाली कराने हेतु लगाई अधिकारियों से गुहार


जहानाबाद (फतेहपुर)आदर्श नगर पंचायत कस्बा जहानाबाद में अलारख्खू पुत्र मौला बख्श ग्राम मुरीदपुर सैनी खेड़ा पोस्ट गहलोत थाना शिवली कानपुर देहात के पीड़ित विकलांग वृद्ध दंपति ने बताया कि हमने कस्बा जहानाबाद फतेहपुर के मोहल्ला मलकपुर निवासी मो० नसीम अंसारी पुत्र मोहम्मद सलीम अंसारी से 29 मार्च 1993 में परगना कोड़ा पर आराजी संख्या 902 से 220 वर्ग मीटर का एक कित्ता का प्लाट ततसमय 7525 रुपया में क्रय किया था। पीड़ित के अनुसार वर्ष 2003 में ट्रक से एक्सीडेंट में गंभीर रूप से घायल हो जाने पर कई साल उपचार चलने के दौरान शरीर का स्वास्थ्य सही हुआ किंतु पीड़ित का एक पैर टांक से काटना पड़ा और इसके साथ साथ जुबान में भी हकलाहट होने के कारण किसी भी अधिकारी और कर्मचारी को अपनी पीड़ा बताने में असमर्थ दिखता है । विकलांग होने के कारण इधर उधर सरकारी दफ्तरों में चक्कर काटने पर भी मजबूर हो रहा है पीड़ित के तीन बेटे है जिनमें असलम, छोटे और हारून है। पीड़ित अनुसार विकलांग होने के कारण 1993 में खरीदे हुए प्लांट की रखवाली करने में असमर्थ होने के चलते जहानाबाद कस्बा में अपने गांव से ज्यादा आवागमन नहीं कर पाने पर पीड़ित ने अपने छोटे साढ़ू रफीक पुत्र हबीब ग्राम बिलासपुर थाना सजेती कानपुर निवासी को निवासिता हेतु परेशानी देखी तो उक्त खरीदे गए प्लाट में कुछ दिनो के लिए थोड़ी जगह पर मकान बनाकर रहने के लिए कहा  था। किंतु जब कई वर्ष बाद विकलांग जहानाबाद अपनी पत्नी वहींदन के सहारे पहुंचे तो उनके प्लाट पर इनका छोटा साढू जो कुछ दिन के रहने के लिए मांगा था वह उस प्लाट की जगह पर नगर पंचायत द्वारा प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के तहत आवास प्राप्त कर जमीन पर काबिज करते हुए बनाया देखा, तो उन्होंने बातचीत के दौरान कहा कि बिना जानकारी दिए आपने हमारी जगह पर कॉलोनी कैसे बनवाई? जिस पर काबिज करता ने कहा कि यह हमारी जगह है हमने आवास बनवाया है आपको जहां भी शिकायत करना हो करें हम जगह नहीं खाली करेंगे। तब पीड़ित सहित उसकी पत्नी के होश उड़ गए । विकलांग पीड़ित अपनी पत्नी के साथ जहानाबाद थाना, क्षेत्राधिकारी बिंदकी, तहसील दिवस बिंदकी में  अपनी पीड़ा जताते हुए अपने प्लाट को खाली कराए जाने की गुहार लगाई है। 
  अब देखने वाली बात यह है कि क्षेत्रीय प्रशासन विकलांग पीड़ित दंपत्ति का खरीदा हुआ प्लाट काबिजकर्ता से खाली कराते हुए पीड़ित को दिला पाता है या नहीं?