ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
वन स्टॉप सेंटर से फरार हुईं दोनों लड़कियां मिलीं 
August 19, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

 सीतापुर। महिला अस्पताल के वन स्टॉप सेंटर से महिला पुलिस कर्मियों को चकमा देकर भागने वाली दोनों लड़कियों को पुलिस ने पकड़ लिया है। लड़कियों के भागने के मामले में महिला अस्पताल के ही एक कर्मचारी व उसके परिवार वालों की मिली भगत प्रकाश में आई है। पुलिस ने इस मामले में दो मुकदमे दर्ज किए हैं। एक मुकदमा लड़कियों के भागने और उनके भागने में मदद करने वालों के खिलाफ और दूसरा मामला चोरी का दर्ज किया है। महिला अस्पताल में पुलिस का वन स्टाप सेंटर है। यहां से सोमवार देर शाम मछरेहटा व सिधौली की दो लड़कियों ने वहां तैनात महिला पुलिस कर्मियों को बाहर से बंद कर दिया था और भाग निकली थीं। आनन-फानन में पुलिस अधिकारियों ने मौके पर पहुंच कर जांच पड़ताल की। पुलिस अधीक्षक आरपी सिंह ने लड़कियों की तलाश के लिए पांच टीमें बनाई थीं। पुलिस ने पूरी रात कई जगहों पर लड़कियों की बरामदगी के लिए दबिश दी। पुलिस ने एक लड़की को खैराबाद क्षेत्र से तो दूसरी को लखनऊ के इटौंजा के पास से बरामद कर लिया।
सीओ सिटी योगेंद्र सिंह का कहना है कि लड़कियों को भगाने में महिला अस्पताल में तैनात एक कर्मचारी व उसके परिवार ने पूरी योजना बनाई थी। महिला अस्पताल में रहने वाले गोविंद व उसकी बहन दोनों लड़कियों को भगाने में शामिल थी। इसी परिवार ने दोनों लड़कियों को वन स्टॉप सेंटर से भागने के बाद एक कमरे में सुरक्षित रोका था और उन्हें मोबाइल भी उपलब्ध कराए थे। उनका कहना है कि लड़कियों को बरामद कर लिया गया है।
इस मामले में दो मुकदमे दर्ज किए गए हैं। एक मुकदमा चोरी का दर्ज किया गया है। जिसमें वन स्टॉप सेंटर से भागने वाली लड़कियों ने वहां के स्टाफ का मोबाइल व पर्स चोरी किया था। इस मामले में भागी हुई दोनों लड़कियों के अलावा महिला अस्पताल में रहने वाले गोविंद व उसकी बहन समेत चार लोगों को नामजद किया गया है। जबकि दूसरा मामला दोनों लड़कियों के भागने व सहयोग करने का दर्ज हुआ है। जिसमें भी इन्हीं चार लोगों को नामजद किया गया है।