ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
वैश्य एकता परिषद द्वारा आयोजित वेबिनार में व्यापारी व वैश्य समाज की समस्याओं के निदान के प्रति हुआ चिंतन 
September 21, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

वैश्य एकता परिषद द्वारा आयोजित वेबिनार में व्यापारी व वैश्य समाज की समस्याओं के निदान के प्रति हुआ चिंतन 

 इंस्पेक्टर राज से मुक्ति दिलाने को प्रदेश सरकार संकल्पित- राम नरेश अग्निहोत्री

बैठक में राज्य सभा सदस्य डा अनिल अग्रवाल व राष्ट्रीय अध्यक्ष डा सुमंत गुप्ता का प्राप्त हुआ सानिध्य

फतेहपुर। व्यापारी एवं वैश्य समाज को इंस्पेक्टर राज व लाल फीताशाही से मुक्ति दिलाने हेतु प्रदेश व केंद्र सरकार दृढ संकल्पित है। शीघ्र ही सारी व्यवस्थायें ई लाइन के माध्यम से हल होंगी। उक्त विचार अखिल भारतीय वैश्य एकता परिषद की वेबिनार बैठक में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित प्रदेश सरकार के आबकारी मंत्री राम नरेश अग्निहोत्री ने कही। उन्होंने कहा कि राजनीति में वैश्य समाज का प्रतिनिधित्व उसकी आबादी के हिसाब से काफी कम है। लेकिन जितनी है वह पूरे वैश्य समाज के लिये गौरव की बात है। उन्होंने कहा कि प्रदेश व केंद्र सरकार सदैव व्यापारी हित में चिंतन करती है और आगे आने वाले समय में लाल फीताशाही व इंस्पेक्टरराज से मुक्ति दिलाने हेतु आनलाइन व्यवस्था करने जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में उद्योग बढेगा देश व प्रदेश का विकास होगा तभी व्यापारी व वैश्य समाज खुशहाल होगा। 
 बैठक की अध्यक्षता करते हुये राज्य सभा सदस्य डा अनिल अग्रवाल ने व्यापारी व वैश्य समाज द्वारा कोरोना काल में किये गये कार्यों की सराहना करते हुये कहा कि जिस सेवा भाव से वैश्य समाज के लोगों ने घर घर जा कर जो सहयोग प्रदान किया है वह सराहनीय है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार व केंद्र सरकार व्यापारी व वैश्य समाज की समस्याओं के निराकरण के लिये सदैव प्रयत्नशील है। व्यापारियों व वैश्य समाज का कम से कम उत्पीडन हो इसके लिये सिंगल विंडो व्यवस्था बनायी जा रही है।  मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा सुमंत गुप्त ने कहा कि कोरोना काल में दो माह व्यापारियों की पूर्णतः बंदी होने के कारण व्यापारी समाज काफी आर्थिक संकट के दौर में आ गया है। इसलिये प्रदेश सरकार व केंद्र सरकार को व्यापारियों के हित में कुछ निर्णय लेने होंगे जिससे उनका व्यापार पुनः चालू हो सके। इस मौके पर हरिओम अग्रवाल, विनय अग्रवाल, संतोष गुप्त, विनोद गुप्त, शैलेंद्र शरन सिम्पल, डा ओपी गुप्त, राम कृष्ण गुप्ता, नरेश माहेश्वरी, अजय गुप्त, संजय गुप्त, कविता रस्तोगी, बब्बू भइया, आलोक जी, विजय रस्तोगी, राम विशाल गुप्त, वैद्य राम स्वरूप गुप्त, उमा शरन सहित तमाम प्रदेश व राष्ट्रीय पदाधिकारी उपस्थित रहे।