ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
वैक्सीन उपलब्ध होने के बावजूद 2021 तक लोगों को पहनना होगा मास्क:विशेषज्ञ
September 26, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

अमेरिका के प्रमुख संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. एंथनी फाउची का कहना है कि वैक्सीन उपलब्ध होने के बावजूद अगले साल तक लोगों को मास्क पहनना होगा। फाउची ने कहा कि सिर्फ वैक्सीन के जरिए 2021 तक कोरोना पर काबू नहीं पाया जा सकता।डॉ. फाउची ने कहा कि हमें वैक्सीन के साथ भी सोशल डिस्टेंस, हाथों की सफाई और मास्क का उपयोग जारी रखना होगा।उन्होंने कहा कि ऐसा करके ही हम कोरोना वायरस के स्तर को काफी नीचे ला सकते हैं जिससे महामारी खत्म हो जाए।फाउची का यह भी कहना है कि पहली कोरोना वैक्सीन इतनी प्रभावी नहीं रहने वाली है जो लोगों को 100 फीसदी कोरोना वायरस से बचा सके।उन्होंने कहा कि शायद वैक्सीन लोगों के लिए 70 फीसदी तक सुरक्षित साबित हो जाए।इससे पहले एक्सपर्ट यह भी कह चुके हैं कि अगर ट्रायल के दौरान वैक्सीन 50 फीसदी लोगों के लिए भी प्रभावी रहती है तो उसे मंजूरी मिल सकती है। फाउची ने कहा कि ऐसी कोई एक चीज नहीं है जो अपने दम पर कोरोना वायरस को पूरी तरह खत्म कर सके।इसलिए एक साथ कई चीजों के उपयोग की जरूरत है।बता दें कि दुनियाभर में इस वक्त करीब 30 वैक्सीन ऐसी हैं जिनका टेस्ट इंसानों पर किया जा रहा है।अमेरिका में 4 वैक्सीन ट्रायल के आखिरी फेज में पहुंच चुकी है।अमेरिका में एस्ट्रेजेनका, मॉडर्ना, फाइजर और जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन ट्रायल के आखिरी राउंड में पहुंच चुकी है।एस्ट्रेजेनका, मॉडर्ना और फाइजर की वैक्सीन अगर सफल साबित होती है तो लोगों को इन वैक्सीन की दो खुराक की जरूरत होगी।वहीं, जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सी वान की एक खुराक ही प्रभावी हो सकती है।