ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
वाराणसी में गाड़ी खड़ा करने के विवाद में मनबढ़ ने लाइसेंसी पिस्टल से अपराधी को मारी गोली, मौत
August 22, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

वाराणसी,लंका थाना क्षेत्र के मलहिया गायत्री नगर मोड़ पर शुक्रवार की रात मदरवां निवासी अनिल यादव उर्फ गोरख को विवाद के दौरान कार सवार मनबढ़ों ने लाइसेंसी पिस्टल से गोली मार दी जिसके बाद ट्रामा सेंटर में मौत हो गई। गोली चलने की आवाज पर आसपास और परिवारीजनों ने आरोपी की पकड़ कर धुनाई कर दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायल को ट्रामा सेंटर भेजा। गोली की सूचना पर एसपीसिटी विकास चन्द्र त्रिपाठी सहित काफी मात्रा में फोर्स पहुंच गई। आरोपी रोशन द्विवेदी की मुलरूप से लालपुर चकिया का रहनेवाला है और लंका के मलहिया गायत्री नगर में रहता है।चकिया में ही रोशन का आईटीआई कालेज भी है। ट्रामा सेंटर पर भाजपा नेता भी रोशन के पैरवी के लिए पहुंच गए। अनिल उर्फ गोरख के परिजनों ने ट्रामा सेंटर पर बताया कि घर पर ही सो रहा था अचानक बाइक उठाकर मोमोज खाने घर से 50 मीटर की दूरी पर चला गया जहां अपनी बाइक लगाकर खड़ा था। आगे से तीन चार पहिया गाड़ी आयी और हटने के लिए कहा तो विवाद शुरू हुआ और मारपीट शुरू हो गई जिसके बाद रोशन ने लाइसेंसी पिस्टल से गोलियां बरसा दी जिसके बाद मौके पर ही अनिल गिर गया। आसपास के लोग और अनिल के परिवारीजन आरोपी की जमकर धुनाई के बाद पुलिस को सौंप दिये। पुलिस ने गंभीर रूप से घायल अनिल व आरोपी को ट्रामा सेंटर भेजा जहां कुछ बाद डॉक्टरों ने अनिल को मृत घोषित कर दिया। युवक की मौत की जानकारी होते ही परिवार वाले  और जमकर हंगामा करने लगे। एसपीसिटी ने काफी समझाने की कोशिश की लेकिन लोग शव को जबर्दस्ती ले जाने की मांग करने लगे और बवाल के लिए आगे बढ़े तो एसपीसिटी में कड़ाई से रोक दिया। अनिल की पत्नी रेखा शुक्रवार को दिन भर पति के लिए निर्जला व्रत थी और तीज व्र पूजन कर रही थी और उसके पहले उसने अनिल को रोका भी लेकिन क्या पता था की मौत ले जा रही है।गोलियों की तड़तड़ाहट सुनकर अनिल की पत्नी रेखा डंडा लेकर मौके पर पहुंच गई और आरोपियों के ऊपर टूट पड़ी। अस्पताल पहुंचते ही मौत की सूचना पर दहाड़े मारकर चिल्लाने लगी। आसपास के लोगों ने बताया कि आरोपी का भाई और अन्य साथी भी हवाई फायरिंग करते हुए भागे हैं। मलहिया गायत्री नगर के रहने वाले अनिल के पिता हीरा यादव की पहले ही संदिग्ध मौत हो चुकी है। तीन बेटों में अनिल सबसे छोटा था और अपने भाइयों के साथ बीएचयू विश्वनाथ मन्दिर पर गायत्री कैफे की दुकान है। अनिल के ऊपर लंका थाने में चार लूट मारपीट सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज है और नवंबर में लूट के मामले में जेल से छुटा था। मूल रूप से चंदौली के चकिया थाना क्षेत्र के लालपुर गांव का रहने वाला रोशन द्विवेदी काफी मनबढ़ प्रवत्ति का है और उसका बड़ा भाई सोनू द्विवेदी जो कि वर्तमान ग्राम प्रधान होने के साथ ही आईटीआई कॉलेज का संचालन गांव से करता है। रोशन अक्सर कई गाड़ियों से चलता था और भाजपा के लोगों का संरक्षण होने के कारण किसी से डरता नहीं था। विवाद के बाद सीधे सीने में गोली मार दी।