ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
उच्च रक्तचाप और टाइप-2 डायबिटीज को शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बुरा
September 11, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

(न्यूज़)।उच्च रक्तचाप और टाइप-2 डायबिटीज को शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बुरा माना जाता है। डायबिटीज से शरीर कमजोर हो जाता है और उच्च रक्तचाप से दिल संबंधित बीमारियों का खतरा बढ़ता है।लेकिन, एक हालिया शोध में पता चला है कि यह हमारे शरीर के साथ दिमाग को भी कई तरीकों से प्रभावित करता है।इन बीमारियों के कारण दिमाग पर होने वाले प्रभाव के लक्षण अधेड़ उम्र में देखने को मिलते हैं। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के न्यूरोलॉजिस्ट मिशेल वेल्डमैन ने कहा, हमें शोध में पता चला है कि उच्च रक्तचाप और डायबिटीज होने से सोचने की गति और याददाश्त पर प्रभाव पड़ता है। जैसे-जैसे रक्तचाप बढ़ता है वैसे-वैसे सोचने की शक्ति और याददाश्त खराब होती जाती है। दिमाग में रक्त प्रवाह को बाधित करने वाली बीमारियां या जीवन शैली के अनुवांशिक कारकों को सेरेब्रोवस्कुलर जोखिम कारक कहा जाता है।शोधकर्ता वेल्डसमैन ने कहा, दिमाग में कई प्रकार के नेटवर्क और इलाके होते हैं और यह सभी संयुक्त रूप से काम करते हैं।यह हिस्से एक दूसरे से व्हाइट मैटर के जरिए संवाद करते हैं।हमें शोध में पता चला है कि उच्च रक्तचाप और डायबिटीज के कारण दिमाग के घनत्व और फ्रोनटोपेरियेटल नेटवर्क में मौजूद व्हाइट मैटर में कमी आती है।