ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
थाना हथगाम पर गौकसों को संरक्षण देने का आरोप
July 24, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

गोकसी करने से रोंका तो महिला की हुई पिटाई, थाना पुलिस ने पीडिता को थाने से भगाया


फतेहपुर 24 जुलाई। 
जनपद के थाना हथगांव क्षेत्र में पुलिस के संरक्षण पर गोकशी होने की खबर है। गोकशी से संबंधित एक ऐसा ही मामला गांव पट्टी शाह से आया है ।जिसमें गोकशी  रोकने से हुई मारपीट की शिकायत करने जब पीड़ित पक्ष पहुंचा तो पुलिस ने उल्टे ही उन्हें आड़े हाथों लिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार थाना हथगाम क्षेत्र के गांव पट्टी शाह में अजमेरी की खेतों में अक्सर गोकशी की जाती है। इसकी जानकारी देते हुए गांव की ही शमीमा बेगम ने बताया कि पिछली 22 जुलाई को सुबह लगभग 10:30 बजे गांव के ही जरीना पत्नी हनीफ अजमेरी वा फरीद पुत्र अनीश ,इम्तियाज पुत्र हनीफ, सलमान व सोनू पुत्र मुशीर, नसीम ,वसीम अजमेरी के खेतों में गोकशी कर रहे थे।
 शमीमा बेगम ने बताया कि उसका घर अजमेरी के खेत के सामने ही है गोकशी करने के बाद खून मांस व हड्डियां वहां छोड़ दी जाती है। तो संक्रामक बीमारियां फैलने का खतरा बढ़ जाता है। इस बात को लेकर जब उसने गोकशी करने से रोका तो उक्त लोगों ने उसके साथ मारपीट करना शुरू कर दिया। जब वह जान बचाकर भाग कर घर आई तो वह सभी घर में घुस आए और फिर मारपीट किया ।जिसकी सूचना उसने मुख्यमंत्री हेल्पलाइन पर दिया ,इसके बाद वह थाना हथगाम शिकायती पत्र लेकर पहुंची तो उल्टे पुलिस ने ही उन्हें धमकाना शुरू कर दिया ।इस संबंध में क्षेत्रीय लोगों ने बताया कि ग्राम पट्टी शाह में पुलिस के ही संरक्षण में गोकशी का धंधा जोरों पर है। जो भी गोकशी की शिकायत लेकर पुलिस के पास आता है ।पुलिस उसे ऐसे ही बेइज्जत करके भगा देती है। शमीमा बेगम ने जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक से गोकशी के मामले की जांच कराए जाने की मांग की है। साथ ही उनके ऊपर की गई मारपीट करने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई किए जाने की मांग की है। जिससे प्रतिबंधित पशु गाय का पद रोका जा सके।।