ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
तराई में बाढ़ का कहर, सवा सौ गावों तक पहुंचा सरयू का पानी
August 14, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

बाराबंकी। तराई में बाढ़ का कहर जारी है। सरयू नदी का पानी खतरे के निशान से एक मीटर ऊपर पहुंच जाने की वजह से तराई के करीब सवा सौ गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। इन गांवों में पानी भरने घरों में रखा अनाज व अन्य सामान खराब होने से लोगों के सामने दो वक्त की रोटी का संकट खड़ा हो गया है। वहीं तटबंध पर जीवन गुजार रहे लोगों के लिए बारिश मुसीबत बनी है।
एल्गिन ब्रिज पर बने कंट्रोल रूम के अनुसार सरयू नदी का जलस्तर खतरे के निशान से एक मीटर से ऊपर पहुंचकर स्थिर हो गया है। इससे तराई में बाढ़ का पानी तबाही मचाए हुए हैं। पानी के तेज बहाव के चलते तपेसिपाह मार्ग बह गया। इससे आवागमन पूरी तरह ठप हो गया है। वहीं रामनगर क्षेत्र के कोरियनपुरवा, तपेसिपाह, दुर्गापुर, लहड़रा मडना, हरिनारायणपुर, निजामुद़दीनपुर, मोतीपुरवा, मीतपुर, मथुरापुरवा, जंगुसिंहपुरवा तथा सूरतगंज क्षेत्र के हेतमापुर, कंचनापुर, लोहटी जेई, लोहटी पसई, सुंदरनगर, कोड़री, ललपुरवा, सरसंडा, कोयली पुरवा, पर्वतपुर मदरहा, गायघाट, बतनेरा और सिरौलीगौसपुर क्षेत्र के टेपरा, सनावा, भयका पुरवा, कहारनपुरवा, विहड़, सिरौलीगुंग, कोठीडीहा, परसा, ठेकवा, टटेरवा, घुटरू, सरदहा, बघौली पुरवा, सरयसुर्जन, भयरवकोल, गोबरहा, तेलवारी, इटहुआ, पासिन पुरवा, नव्वनपुरवा, पारा, परसावल, बेहटा समेत करीब सवा सौ गांवों में पानी भर गया है। इन गांवों के ज्यादातर परिवार तटबंधों पर डेरा डाले हुए हैं। रात से हो रही बारिश ने बाढ़ पीड़ितों की मुसीबतों को और बढ़ा दिया है।