ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या प्रकरण में लखनऊ में आज सुनवाई उच्चस्तरीय जांच की मांग पर
June 18, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

लखनऊ। कम समय में बेहद लोकप्रिय बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या की बात किसी के गले नहीं उतर रही है। हर तरफ माहौल बेहद गमगीन है। ऐसे में लोग उनकी आत्महत्या को बड़ी साजिश भी मान रहे हैं। लखनऊ में भी हाई कोर्ट के अधिवक्ता से सीजेएम कोर्ट में मामले की उच्चस्तरीय जांज की मांग की अर्जी दी है। जिस पर आज सुनवाई होनी है।

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या प्रकरण में लखनऊ में हाई कोर्ट अधिवक्ता ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (सीजेएम) कोर्ट में इस मामले में उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग को लेकर अर्जी डाली है। इस अर्जी में सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड को आत्महत्या के लिए उकसाने का केस दर्ज करने की मांग की गई है। अर्जी में मांग की गई है कि करन जौहर, एकता कपूर, सलमान खान तथा अमिताभ बच्चन के खिलाफ मामला दर्ज हो। इस अर्जी पर आज दिन में एक बजे कोर्ट में सुनवाई होगी।

इससे पहले भी देश भर में सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के मामले में आठ लोगों पर केस दर्ज किया गया है। इनके खिलाफ आरोप साबित हुए तो कम से कम दस वर्ष की जेल होगी। बिहार के मुजफ्फरपुर में बॉलीवुड के आठ नामचीन लोगों के खिलाफ सुशांत सिंह राजपूत को आत्महत्या के लिए उकसाने की धाराओं में केस दर्ज किया गया है। इन सभी पर आरोप है कि यह लोग इरादतन सुशांत की फिल्में रिलीज नहीं होने देते थे। इस मामले में करन जौहर, आदित्य चोपड़ा, साजिद नाडियाडवाला, सलमान खान, संजय लीला भंसाली, भूषण कुमार, एकता कपूर और दिनेश विजान के खिलाफ केस दर्ज हुआ है।

इन सभी पर अगर सुशांत सिंह राजपूत को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप साबित हो जाता हैं तो सभी को दस-दस साल तक की जेल हो सकती है। इन सभी के खिलाफ आईपीसी की धारा 306 और 109 के तहत केस कंप्लेन यानी परिवाद पत्र दाखिल हुआ है। यह सभी धाराएं आत्महत्या करने के लिए उकसाने की हैं। 

गौरतलब है कि सुशांत सिंह राजपूत ने मुंबई के बांद्रा में अपने फ्लैट में 14 जून को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। सुशांत के आत्महत्या की खबर से बॉलीवुड में नई बहस छिड़ गई है। बॉलीवुड का एक खेमा यह आरोप लगा रहा है कि फिल्म इंडस्ट्री के स्थापित कलाकार नए कलाकारों को आगे बढऩे से रोकते हैं।