ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
सुरेंद्र कालिया पर 50 हजार का इनाम, खुद पर करवाई थी ताबड़तोड़ फायरिंग 
August 18, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

 लखनऊ । रेलवे ठेकेदार और जिला पंचायत सदस्य सुरेंद्र कालिया पर पुलिस ने 50 हजार का इनाम घोषित किया है। सोमवार देर रात पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडय ने इनाम की घोषणा की। सुरेंद्र कालिया ने सरकारी गनर हासिल करने के लिए 13 जुलाई को आलमबाग अजंता हॉस्पिटल के सामने खुद पर ताबड़तोड़ फायरिंग करवाई थी। वारदात का खुलासा पुलिस ने चार आरोपियों  को गिरफ्तारी कर किया था। कालिया फरार है। आलमबाग पुलिस ने इस वारदात का खुलासा करते हुए हमले में शामिल चार बदमाशों को गिरफ्तार किया था। वहीं हमले की साजिश रचने वाले सुरेन्द्र कालिया समेत चार बदमाश की तलाश की जा रही है।
पुलिस ने पकड़े गए बदमाशों के पास से 9 एमएम और .32 बोर की पिस्टल समेत सफारी स्ट्रोम गाड़ी भी बरामद की थी जिसमें सवार होकर बदमाश घटनास्थल पर पहुंचे थे।  सुरेन्द्र कालिया ने अपने ऊपर हमले की पूरी कहानी वारदात से एकसप्ताह पहले आशियाना स्थित आवास पर रची थी। उसी समय एसयूवी में नौ फायर किए थे। वारदात के दिन चार फायर किए थे। फॉरेंसिक जांच में इसका खुलासा हुआ था। 
 *हरदोई के कछौना से है जिला पंचायत सदस्य* 
एडीसीपी मध्य चिरंजीव नाथ सिन्हा के मुताबिक, मूलरूप से हरदोई के कछौना से जिला पंचायत सदस्य सुरेन्द्र कालिया कृष्णा नगर के बरिगवां कानपुर रोड में रहता है। वह रेलवे की ठेकेदारी भी करता है। 13 जुलाई को सुरेन्द्र कालिया ने आलमबाग पुलिस को सूचना दी कि उसके ऊपर जानलेवा हमला हुआ था। 
शूटरों ने करीब 13 राउंड गोलियां चलाई। बुलेटप्रूफ गाड़ी होने के चलते उसकी जान बच गई लेकिन उसका प्राइवेट गनर एटा निवासी रामरूप यादव घायल हो गया था। आलमबाग पुलिस ने उसकी तहरीर पर पूर्वांचल के बाहुबली पूर्व सांसद के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर छानबीन शुरू की थी।
एडीसीपी ने बताया कि वारदात के बाद सुरेन्द्र कालिया ने पुलिस को बताया था कि उसने जौनपुर के जफराबाद रेलवे ट्रैक के दोहरीकरण का ठेका लिया है जिसमें उसके ज्वाइंट वेंचर डीडी आहूजा पार्टनर हैं। पूर्व सांसद उसे ठेके से हटाने के लिए लगातार धमकी दे रहे थे। न मानने पर उसके ऊपर जानलेवा हमला कराया।
सुरेन्द्र कालिया के इस बयान पर पुलिस जांच शुरू की। उसकी यह कहानी फर्जी निकली। फर्जी हमले के वारदात में  शामिल साजिशकर्ता सुरेन्द्र कालिया, सुमित सिंह, दो अज्ञात और गाड़ी पर फायर करने वाला शूटर अभी फरार हैैं जिनकी तलाश की जा रही है।