ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
सुप्रीम कोर्ट के बाद अब इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी मोहर्रम पर ताजिया निकालने की परमिशन देने से किया इनकार
August 30, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

प्रयागराज। मोहर्रम पर ताजिया निकालने की अनुमति को लेकर सुप्रीम कोर्ट पहले ही अपना रुख साफ कर चुका है और इस मामले को लेकर उसने ताजिया निकालने की मांग को सिरे से खारिज कर दिया था। वहीं अब इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी इस मांग को लेकर बड़ा फैसला सुनाया है। दरअसल इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कोविड महामारी संक्रमण के चलते धार्मिक समारोहों के आयोजन पर लगी रोक हटाकर मोहर्रम का ताजिया निकालने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है।

इस मामलो को लेकर दाखिल की गई याचिकाओं को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है। कोर्ट का कहना है कि कोविड-19 को लेकर शासन की गाइडलाइन में किसी तरह का विभेद नहीं किया गया है। कोर्ट का यह भी कहना है कि सरकार ने कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका को देखते हुए सभी धार्मिक समारोहों पर रोक लगाई है। इसमें किसी भी विशेष समुदाय के साथ कोई भेदभाव नहीं किया गया है।
कोर्ट ने कहा है कि जन्माष्टमी पर झांकी और गणेश चतुर्थी पर पंडालों पर भी रोक लगाई गई थी। ठीक उसी तरह मोहर्रम में ताजिया निकालने पर भी रोक लगी है। किसी समुदाय को टार्गेट करने का आरोप निराधार है। सरकार ने कोरोना फैलाव को रोकने के लिए ही ये कदम उठाया है। कोर्ट का कहना है कि महामारी के दौर में सड़कों पर भीड़ की इजाजत नहीं दी जा सकती है।
इस मामले को बनाया था आधार
इसके साथ ही कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा है कि देशवासियों को कोविड-19 की गाइडलाइन का कड़ाई से पालन करना चाहिए। इस मामले को लेकर याचिकाकर्ता के वकील सीनियर एडवोकेट वीएम जैदी ने जगन्नाथ रथ यात्रा की तर्ज पर ही ताजिया दफन करने के लिए पांच या पांच से कम लोगों के लिए परमिशन देने की बात कही थी जिसको अदालत ने यह कहते हुए खारिज कर दिया की जगन्नाथ यात्रा एक शहर की बात थी जबकि मोहर्रम पूरे देश मैं मनाया जाएगा इसलिए इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती।