ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
स्ट्रेस हार्मोन का स्तर बढ़ने पर घट जाती है रोग-प्रतिरोधक क्षमता
November 6, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

स्ट्रेस हार्मोन का स्तर बढ़ने पर घट जाती है रोग-प्रतिरोधक क्षमता

(न्यूज़)।क्या आपके सिर में अक्सर दर्द बना रहता है।क्या रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले सभी उपाय करने के बावजूद आप हफ्ते दो हफ्तों में सर्दी जुकाम की चपेट में आ जाते हैं।अगर हां तो इसके लिए बहुत हद तक मानसिक तनाव जिम्मेदार हो सकता है।अमेरिकन बोर्ड ऑफ साइकियेटरी एंड न्यूरोलॉजी का हालिया अध्ययन तो कुछ यही बयां करता है।शोधकर्ताओं के मुताबिक तनाव ग्रस्त परिस्थितियों में शरीर एड्रेनालिन,डोपामाइन,नोरेपाइ नेफ्राइन और कॉर्टिसोल जैसे स्ट्रेस हार्मोन का स्त्राव बढ़ा देता है।ये हार्मोन लिंफोसाइट के उत्पादन की रोग-प्रतिरोधक तंत्र की क्षमता घटाते हैं।चिकित्सकीय भाषा में लिंफोसाइट उन स्वेत रक्त कोशिकाओं को कहते हैं,जो जानलेवा विषाणुओं से लड़ने की शरीर की ताकत निर्धारित करती हैं।