ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
सोनिया गांधी का सरकार पर निशाना, कहा- कठिन दौर से गुजर रहा लोकतंत्र, पार्टी कार्यकर्ता लड़ें जनता की लड़ाई
October 18, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

नई दिल्ली, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रविवार को पार्टी के नेताओं के साथ मीटिंग की। इस मीटिंग के दौरान उन्होंने पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं से कहा कि वो लोग आम जनता के मुद्दों के लिए संघर्ष करें। साथ ही उन्होंने कहा कि इन दिनों देश का लोकतंत्र सबसे कठिन दौर से गुजर रहा है। देश के तमाम राज्यों में अराजकता का माहौल देखने को मिल रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी एआईसीसी के महासचिवों और राज्य प्रभारियों की बैठक की अध्यक्षता कर रही थीं, इसी बैठक में उन्होंने ये बातें भी कहीं।

शाम 4 बजे शुरू होने वाली बैठक के बारे में ट्वीट करते हुए कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सोनिया जी ने लोगों के मुद्दों के लिए संघर्ष करने और उनके कष्टों को कम करने के लिए सभी को प्रेरित किया क्योंकि हमारा लोकतंत्र इस कठिन समय से गुजर रहा है। देश के तमाम राज्यों में किस तरह के हालात हैं ये सभी को पता चल रहा है।

ऐसे में ये लगता है कि प्रदेश की सरकारें किस तरह से शासन चलाने में नाकाम हैं। लोगों को रोजगार नहीं मिल रहा है इस वजह से अपराध में बढ़ोतरी हो रही है। शासन का किसी तरह से डर नहीं रह गया है जिसकी वजह से अपराधी और बदमाश इस तरह की हरकतों को अंजाम दे रहे हैं। उनके अंदर शासन का खौफ बिल्कुल नहीं रह गया है।

मध्य प्रदेश की कुछ सीटों पर उपचुनाव होने हैं और बिहार में विधानसभा के चुनाव होने हैं। ये बैठक इन दोनों प्रदेशों में होने वाले उपचुनाव और विधानसभा चुनाव को लेकर भी महत्वपूर्ण मानी जा रही है। मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों उपचुनाव होने हैं। इसी के साथ यूपी के हाथरस में दलित लड़की के साथ हुए अपराध की भी निंदा की गई। इसके अलावा यूपी में कानून व्यवस्था की स्थिति पर भी विचार किया गया।

उन्होंने पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहा कि वो सरकार के बिगड़े कामकाज और हालात के लिए जिम्मेदार सरकार के बारे में भी जनता को बताएं। इससे पहले किसानों के लिए लाए गए बिल को लेकर कांग्रेस ने पूरे देश में जगह-जगह प्रदर्शन का आयोजन किया था। कुछ प्रदेशों में तो अब तक किसान अपने आंदोलन को लेकर धरने पर बैठे हुए हैं।