ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
शिक्षक दिवस पर बाबा का आह्वान  नशा मुक्त की शपथ लेकर शिक्षक छात्रों के रोल मॉडल बने ज्योति बाबा
September 7, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश


 
कानपुर ।नशे का सेवन कर किशोर छात्र-छात्राओं के सम्मुख नकारात्मक छवि बनाने वाले 20% शिक्षक शिक्षिकाएं शिक्षक दिवस पर  कोरोना की विषम परिस्थितियों में भी नशा त्यागने की शपथ लेकर एक जीवंत उदाहरण छात्रों के सम्मुख प्रस्तुत कर आदर्श शिक्षक बन सकते हैं ऐसा कर न सिर्फ अपने स्कूल बल्कि समाज में भी छवि निखार सकते हैं।
यह बात सोसाइटी योग ज्योति इंडिया के तत्वाधान में कोरोना मिटाओ नशा हटाओ हरियाली बढ़ाओ अभियान के तहत आयोजित वर्चुअल बैठक विषय "वर्तमान परिस्थितियों में शिक्षक दिवस की सार्थकता" पर अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख योग गुरु ज्योति बाबा ने कही l
 श्री ज्योति बाबा ने आगे कहा कि सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की एक रिपोर्ट से भारत के 18 वर्ष के नीचे के 87% युवा किसी ना किसी प्रकार के नशे के आदी बन चुके हैं जिसका सीधा अर्थ है कि स्कूली शिक्षा में कहीं बड़ी चूक हो गई या हम समयानुकूल शिक्षा में परिवर्तन नहीं ला सके जिसके कारण स्कूली छात्र मेरिट होल्डर होने के बावजूद नशे का सेवनकरता बन गया है परिणाम स्वरूप इंजीनियर वकील व अन्य प्रतिष्ठित व्यवसाय में होने के बावजूद वह नशे का लती भी पाया जा रहा है जिसके चलते शिक्षा के सर्वांगीण विकास के संकल्पों से हम कोसों दूर हो गए हैं और हर ओर अनुशासन तोड़ना ही धर्म बन गया है इसीलिए एकमात्र अंतिम आशा हमारी शिक्षा जगत से जुड़े सभी गुरुजनों से है कि वह वह फिर से भारत को विश्व गुरु बनाने हेतु चाणक्य के चातुर्य लेकर भागीरथ सा प्रयास करें l वरिष्ठ शिक्षक ओम नारायण त्रिपाठी ने कहा कि आज गुरुओं को शिक्षकों ने प्रतिस्थापित कर दिया है यह गौरवशाली परंपरा त्याग समर्पण और सम्मान से होती हुई मात्र औपचारिकता पर सिमटी सी लग रही है हमें शिक्षक दिवस को नशा मुक्त संकल्प दिवस के रूप में स्थापित कर छात्रों की बेहतर मनहा स्थिति बनाते हुए राष्ट्र निर्माण के मार्ग में प्रशस्त करें l राष्ट्रीय संयोजक नशा मुक्त युवा भारत अभियान कुलदीप सिंह परमार एडवोकेट ने कहा कि मैं समस्त गुरुजनों को नमामि वंदन करते हुए उनसे नशा मुक्त भारत की सफलता का आशीर्वाद मांगता हूं l वर्चुअल संगोष्ठी का संचालन लिम्का बुक रिकॉर्ड धारी आलोक मेहरोत्रा व धन्यवाद समाजसेवी राकेश चौरसिया ने दिया l अन्य प्रमुख विचारक राजेंद्र कश्यप,संविधान रक्षक दल कृष्ण मोहन गिरी,प्रेम नगर कमेटी स्वामी गीता इत्यादि थी l