ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
सेवा, समर्पण व भूखमुक्त भारत संकल्प को समर्पित सन्त शंकर गिरी महाराज
October 7, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

सेवा, समर्पण व भूखमुक्त भारत संकल्प को समर्पित सन्त शंकर गिरी महाराज

नवम्बर 2018 से भूखी मानवता को समर्पित सन्त

एक लक्ष्य, एक संकल्प, भूखमुक्त भारत संकल्प

प्रयागराज। व्यक्तिगत मोक्ष हेतु पहाड़ों, कन्दराओं व श्मसान घाटों पर तपस्या व साधना में रत सन्तों के हजारों उदाहरण दिख जाएंगे लेकिन सेवा, समर्पण व भूखी मानवता को समर्पित सन्त शंकर गिरी जी महाराज सर्वकालिक महान संत हैं।
   जानकारी के अनुसार मां काली शक्ति साधना केंद्र की अद्वितीय भूखमुक्त भारत संकल्प यात्रा भईया जी का दाल-भात परिवार के संस्थापक सदस्यों में से एक व आवाहन अखाड़ा के महंत सन्त शंकर गिरी जी महाराज नागा बाबा साक्षात त्याग, तपस्या, सेवा, समर्पण व भूखमुक्त भारत को समर्पित दुर्लभ कर्मयोगी सन्त हैं।
  बता दें कि प्रयागराज के संगम तट पर बंधवा वाले बड़े हनुमान मन्दिर के पास नाविक संघ कार्यालय पर नवम्बर 2018 से अनवरत चल रहे अन्न क्षेत्र भईया जी का दाल-भात परिवार द्वारा प्रतिदिन हजारों भूखों को भरपेट शुद्ध, ताजा व पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराया जाता है जिसमे महन्थ शंकर गिरी जी महाराज का बड़ा योगदान है। शंकर गिरी जी प्रायः स्वयं अन्न संग्रह करके इस अन्न क्षेत्र में लाने के साथ स्वयं घण्टों खड़े होकर श्रद्धा से भूखों को भोजन कराते हैं। इस बावत बात करने पर शंकर गिरी जी का कहना है कि प्रत्येक जीव में ईश्वर का वास है अतएव हर जरूरतमंद जीव की सेवा ही ईश्वर की सच्ची साधना है। नर सेवा नारायण सेवा के मार्ग पर चलने वाले शंकर गिरी जी का सपना है कि भईया जी का दाल-भात परिवार के भूखमुक्त भारत संकल्प में समाज के सक्षम लोग स्वेच्छा से जुड़कर इसे एक आंदोलन का रूप देकर प्रयागराज सहित पूरे भारत में चलाएं जिससे एक भी व्यक्ति भूखा न सोये। उनके अनुसार वास्तविक रामराज्य व आत्मनिर्भर भारत का सपना तभी साकार होगा जब भारत भूखमुक्त, अपराधमुक्त व भ्रष्टाचारमुक्त हो। आज का भोजन वितरण भईया जी का दाल-भात परिवार द्वारा किया गया। इस अवसर पर महन्थ शंकर गिरी जी महाराज नागा बाबा, प0 संकठा द्विवेदी, प0 अतुल कुमार गुड्डू मिश्र, सन्तोष कुमार, रवि व उनके साथीगण सेवाकार्य में लगे रहे।