ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
सर्दियों के मौसम में बढ़ सकता है कोरोना का प्रकोप, ठंड में ज्यादा रहता है वायरस फैलने का खतरा
October 4, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

नई दिल्ली,विशेषज्ञों का मानना है कि सर्दियों के मौसम में कोरोना का प्रकोप बढ़ सकता है। इसी कारण है कि यह मौसम सार्स, इंफ्लूएंजा आदि बीमारियों के पांव पसारने के अनुकूल होता है। वायरस का प्रभाव ठंडी या सूखी जलवायु में ज्यादा होता है। फ्लू जैसी बीमारियां ठंड व कम तापमान व आ‌र्द्रता में ज्यादा फैलती हैं। ठंड में सूरज की रोशनी कम होने के कारण विटामिन डी का स्तर कम हो जाता है और इसके कारण इम्युनिटी भी प्रभावित होती है। इससे कोरोना समेत संक्रमण से फैलने वाली बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा ठंड में सांस से निकलने वाले भाप के जरिये वायरस के फैलने का खतरा ज्यादा हो जाता है।

घरों की बनावट भी हो सकती है मददगार

कोरोना वायरस के प्रसार के लिए घरों की बनावट भी मददगार साबित हो सकती है। मसलन, तापमान के संतुलन के लिए घरों में बनाए गई वेंटिलेशन प्रणाली कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलने में मददगार साबित हो सकती हैं। फ्लूड मेकैनिक्स नामक पत्रिका में हाल ही में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि ठंड के दिनों में जब लोग घरों में ज्यादा समय बिताते हैं तब वेंटिलेशन प्रणाली के जरिये कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। अध्ययन में दावा किया गया है कि कोरोना खुले के मुकाबले बंद जगह में ज्यादा तेजी से फैलता है। खुली जगह पर कोरोना के ड्रॉपलेट्स व एरोसोल को लोगों के संपर्क में आने में ज्यादा समय लगता है, इसलिए उसके प्रसार की रफ्तार कम होती है।