ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
रेलवे ने दी गुड न्‍यूज, 15 अक्‍टूबर से चलेंगी 200 से ज्‍यादा नई स्‍पेशल ट्रेनें
October 2, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

रेलवे ने दी गुड न्‍यूज, 15 अक्‍टूबर से चलेंगी 200 से ज्‍यादा नई स्‍पेशल ट्रेनें

नई दिल्‍ली :
अक्‍टूबर-नवंबर के महीने में कई त्‍योहार पड़ते हैं। इसके चलते ट्रांसपोर्ट सिस्‍टम पर पड़ने वाले लोड को देखते हुए रेलवे एक्‍स्‍ट्रा ट्रेनें चलाने की तैयारी में है। 15 अक्‍टूबर से 30 नवंबर के बीच 200 से ज्‍यादा ट्रेनें चलाई जा सकती हैं। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन और सीईओ वीके यादव ने गुरुवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में कहा, "हमने विभिन्न जोनल प्रबंधकों से बात की और उनसे पूछे कि फेस्टिव सीजन में लोगों को असुविधा से बचाने के लिए कितनी ट्रेनों की जरूरत है तो हमारे सामने करीब 200 का आंकड़ा आया। इसी आधार पर हम त्‍योहारी सीजन में इससे कहीं अधिक ट्रेनें चलाने का फैसला कर चुके हैं।"

300 से ज्‍यादा ट्रेनें चला रहा रेलवे
भारतीय रेलवे ने 25 मार्च को राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बाद ट्रेन सेवा बंद कर दी थी। बाद में फंसे हुए कामगारों, श्रद्धालुओं, छात्रों और पर्यटकों के लिए 1 मई से श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई थी। 12 मई से 15 जोड़ी स्पेशल एसी ट्रेनों और 1 जून से 100 जोड़ी टाइम-टेबल ट्रेनों को चलाना शुरू किया था। 12 सितंबर से 80 और ट्रेनों का संचालन शुरू किया गया। इसके बाद, कई स्पेशल ट्रेनों में भारी भीड़ को देखते हुए 21 सितंबर से चुनिंदा रूटों पर 20 जोड़ी 'क्लोन ट्रेन' चलाने का फैसला हुआ।

क्‍लोन ट्रेनों के पीछे क्‍या है दिमाग?
रोज सुबह मॉनिटरिंग होती है कि कहां पर वेटिंग लिस्ट 3-4 दिन से भी लंबी है। जहां लंबी वेटिंग होती है वहां एक क्लोन ट्रेन चला दी जाती है और अगर क्लोन ट्रेन भी भर जाती है तो वहां एक और क्लोन ट्रेन चला दी जाती है। क्लोन ट्रेन की एवरेज ऑक्युपेंसी 60 फीसदी है। यह सामान्य ट्रेन के मुकाबले तेज चल रही है, जिसमें स्टॉप कम हैं। इनमें लंबी दूरी की यात्रा करने वाले यात्रा करना पंसद कर रहे हैं। वहीं कम दूरी वाले लोग ओरिजनल ट्रेन से जा रहे हैं। क्लोन ट्रेन में समय की बचत हो रही है।

यात्रियों को जागरूक भी करेगा रेलवे
त्योहारी मौसम में ट्रेन के साथ-साथ कैंपेन भी चलाया जाएगा। इसमें लोगों को कोरोना को लेकर एजुकेट किया जाएगा। मुख्य रूप से तीन नियम- हाथ बार-बार धोएं, मास्क लगाएं और सोशल डिस्‍टेंसिंग बनाए रखने की जानकारी दी जाएगी। स्टेशनों के आस-पास के गांवों के लोगों को भी कोरोना से बचने के उपायों के बारे में बताया जाएगा।