ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
राज्य सरकार ने घर पर हुए जन्म-मृत्यु का भी पंजीकरण कराना किया अनिवार्य
October 22, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

राज्य सरकार ने घर पर हुए जन्म-मृत्यु का भी पंजीकरण कराना किया अनिवार्य

(न्यूज़)।राज्य सरकार ने कोविड-19 को देखते हुए 1 जनवरी से 30 सितंबर के बीच घर पर हुए जन्म-मृत्यु का पंजीकरण कराना अनिवार्य कर दिया है।शहरी क्षेत्रों में इस काम की जिम्मेदारी निकायों को सौंपी गई है।स्थानीय निकाय निदेशक डा. काजल ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है।उन्होंने कहा है कि प्रदेश में वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण आवासीय जन्म व मृत्यु संख्या में बढ़ी है।इसमें अधिकांश पंजीकृत नहीं हुए हैं।इसको ध्यान में रखते हुए इस अवधि के सभी अपंजीकृत आवासीय जन्म व मृत्यु का पंजीकरण सिविल रजिट्रेशन सिस्टम (सीआरएस) साफ्टवेयर पर करना अनिवार्य होगा।इस काम को 31 अक्तूबर तक पूरा किया जाएगा।प्रत्येक नगर निगम, पालिका परिषद और नगर पंचायतें सभी नगरीय पंजीयन इकाइयों के तहत वार्ड के निर्वाचित सदस्यों या संबंधित इकाई के नामित पदाधिकारियों की मदद से रोजाना 10 से 15 आवासों का भ्रमण किया जाएगा। इस दौरान 1 जनवरी 2020 के बाद हुई घटनाओं की सूचना एकत्र करते हुए सुनिश्चित किया जाएगा।इसमें जन्म व मृत्यु का विवरण दर्ज किया जाएगा।इस अवधि में जन्म किसी शिशु का जन्म पंजीकरण नहीं हुआ है और यदि होम विजिट में किसी आवासीय मृत्यु की घटना जानकारी में आती है और उसका पंजीकरण नहीं हुआ तो उसे किया जाएगा।