ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
प्रधान मस्त जनता त्रस्त सफाई कर्मी है नदारद नहीं हो रहा विकास कार्य
October 9, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

प्रधान मस्त जनता त्रस्त सफाई कर्मी है नदारद नहीं हो रहा विकास कार्य

फतेहपुर।विकासखंड मलवा के अंतर्गत ग्राम ईसापुर  में प्रधान द्वारा आज 5 वर्ष पूरे होने के उपरांत किसी भी प्रकार का कार्य नहीं करवाया गया है एक ओर जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वच्छ भारत अभियान मिशन चला रहे हैं तो वही ग्राम प्रधान चंद्रानी देवी पत्नी राजेश कुमार स्वच्छ भारत अभियान को पलीता लगा रहे है। मामला ईसापुर व सैरपुर का है। गांव में कच्चे रास्ते व कीचड़ से लबालब भरी गलियां तथा नालियों के ना होने से ग्रामीणों का वहां से निकलना दूभर हो जाता है। ग्राम सभा में प्रधान द्वारा किसी प्रकार का कार्य न किए जाने की वजह से आज आलम यह है कि ग्रामीणों को प्रधान के विरोध में खड़ा होना पड़ा वही गांव वालों से जब जानकारी ली गई तो उन्होंने बताया कि 5 वर्ष पूरे होने को हैं। और ग्राम प्रधान आज तक हमारे गांव में हमारे खस्ताहाल जीवन यापन को देखने तक नहीं आए आलम यह है कि रास्ते में कीचड़ भरा होने से आए दिन कोई न कोई हादसा होता रहता है। इसकी शिकायत जब हमने ग्राम विकास अधिकारी राजेश कुमार से की तो उन्होंने कागजी कार्यवाही में सड़क निर्माण व सफाई को पूर्ण बताया जिससे गांव में गंदगी बनी हुई है। और लोगों का जीना दूभर हो गया है तमाम कोशिशों के बावजूद व शिकायती पत्र देने के बाद भी इस ओर किसी भी आला अधिकारी व ग्राम प्रधान का ध्यान इन सड़कों पर नहीं जा रहा है। आलम यह है कि ग्राम सभा में नियुक्त सफाई कर्मी कभी भी साफ-सफाई करने के लिए नहीं आते लोगों ने बताया कि ग्राम प्रधान से सफाई कर्मी के तालुकात अच्छे होने व प्रधान को मासिक खर्च देने की वजह से सफाई कर्मी भी बेफिक्र होकर अपने घर में बैठे हैं। हमारे विकासखंड मलवा तथा ग्राम प्रधान इस ओर कतई ध्यान नहीं दे रहे ग्राम सभा के अंतर्गत आने वाले दर्जनों तालाबों का आज तक सुंदरीकरण नहीं हुआ है। लेकिन *कागजी कार्रवाई में सड़क निर्माण, नालियों की सफाई, व तालाबों का सुंदरीकरण पूर्ण रूप से दिखाया गया है।
आखिर कब तक चलेगी ग्राम प्रधान व अधिकारियों की मनमानी?
 क्या ग्रामीणों की सुनने वाला कोई नहीं है? 
कब तक ग्रामीणों को कीचड़ भरे रास्तों से निकलना पड़ेगा? 
आखिर कब मिलेगी ग्राम वासियों को निजात?