ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
प्रधान की मिलीभगत से दबंग कर रहे ग्राम समाज की जमीन पर कब्जा
June 22, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • अपराध

जहानाबाद (फतेहपुर)।
प्रदेश के यशस्वी एवं इमानदार  मुख्यमंत्री योगी जी और जिले के पुलिस अधीक्षक चाहे जितना प्रयास करले परंतु कुछ जिम्मेदार लोग सरकार के मंसूबे पर पलीता लगाने से बाज नहीं आ रहे हैं।
अभी कुछ दिन पहले ही तालाब की जमीन पर कोटेदार एवं एक अन्य के मकान को गिराने का आदेश जिले के इमानदार एवं तेजतर्रार मुखिया द्वारा दिया गया परंतु फिर भी कुछ जिम्मेदार चेत नहीं रहे हैं ऐसा ही एक मामला जिले के देवमई ब्लॉक के अंतर्गत आने वाले रूसी गांव में देखने को मिला है जहां ग्राम समाज की खाली पड़ी जमीन के कुछ हिस्से पर पर शिव करण सिंह का परिवार लंबे अरसे से अपना घूर डालता रहा है एवं जानवरों को बनता आ रहा है कुछ समय पहले ही जब गांव के दबंगों की नजर इस खाली पड़ी जमीन की तरफ गई तो मामला ही बदल गया और दबंगों ने बिना कोई देर किए ग्राम प्रधान एवं स्थानीय चौकी की मिलीभगत से उक्त जमीन पर कब्जा कर पक्का निर्माण  करवा लिया  शिवकरण  ने जब इसका विरोध किया और प्रधान से जब इसकी मौखिक शिकायत की तो प्रधान ने गाली गलौज करके भगा दिया स्थानीय चौकी पर जब इस बात की शिकायत की गई तो ग्राम प्रधान एवं चौकी इंचार्ज देवमई द्वारा पीड़ित शिवकरण को मां बहन की गालियां दी गई और धमकी दी गई की इस संबंध में कोई भी कदम उठाने की कोशिश की तो डकैती के मुकदमे में फंसा कर जेल भेज देंगे तुम्हारी जिंदगी खराब हो जाएगी पीड़ित ने बताया कि चौकी इंचार्ज द्वारा पीड़ित को 19 जून को पूरे दिन देवमई चौकी में बैठल कर रखा गया पीड़ित के रिश्तेदारों के पूछने पर चौकी इंचार्ज ने बताया कि इसके ऊपर डकैती का केस दर्ज है अब सवाल यह उठता है कि अगर शिवकरण ने डकैती जैसा जघन्य अपराध किया है तो क्या गांव में इसकी कोई हलचल नहीं है चौकी इंचार्ज द्वारा डकैती की सूचना उच्चाधिकारियों को क्यों नहीं दी गई कुल मिलाकर मामला चौकी इंचार्ज और प्रधान की मिलीभगत से 4 बीघे जमीन गांव के दबंग सुमेर सिंह पुत्र कपूर सिंह के दामाद विक्रम सिंह जोकि मथुरा के रहने वाले हैं उनको कब्जा कराना है सरकार को बदनाम करने जिले के ईमानदार मुखिया के किए धरे पर जिम्मेदार ही पलीता लगा रहे हैं अगर समय रहते इसका समाधान नहीं किया गया तो उक्त समस्या कोई बड़ा विवाद बनकर प्रशासन के लिए समस्या पैदा कर सकती है