ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
प्रदेश सरकार का ग्रामीण क्षेत्रों में 18 घंटे बिजली देने का दावा फेल
September 9, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

समुचित बिजली न मिल पाने के कारण किसानों के खेतों कि नहीं हो पा रही सिंचाई

क्षेत्र की जनता की रातों की नींद भी हराम,क्षेत्र की जनता कर रही है पावर हाउस घेराव की तैयारी

हुसैनगंज(फतेहपुर)। भिटौरा ब्लाक क्षेत्र के हुसैनगंज कस्बे के समीप स्थित कैथपुरवा पावर हाउस से क्षेत्र के लोगों को मिलने वाली बिजली की हालत दयनीय हो गई है। जरूरत के समय किसानों व क्षेत्र की जनता को विद्युत आपूर्ति सही ढंग से नहीं मिल पा रही है, इस समय हालत यह है कि हुसैनगंज इलाके के करीब 310 गांव के लोगों को बमुश्किल 6 घंटे ही बिजली मिल पा रही है, जिससे किसानों के खेतों की सिंचाई नहीं हो पा रही है, वहीं क्षेत्र की जनता की रातों की नींद हराम हो गई है बिजली की समस्या से परेशान क्षेत्र के लोगों ने प्रशासनिक अधिकारियों से लेकर क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि तक बिजली की समस्या को लेकर मिल चुके हैं, लेकिन आश्वासन के अलावा बिजली समस्या का हल नहीं निकल पाया है, फतेहपुर के राधा नगर से हुसैनगंज पावर हाउस तक आई 33 हजार केवीए की लाइन इतनी जर्जर हो चुकी है कि लोड अधिक पढ़ने के कारण आए दिन टूट कर गिरते रहते हैं जिससे बिजली आपूर्ति बाधित हो जाती है।लेकिन अभी तक तारों को बदला नहीं जा सका है, हुसैनगंज क्षेत्र को जो थोड़ी बहुत बिजली आपूर्ति होती भी है तो लाइन मैन सही तरीके से बिजली आपूर्ति को चलनें नहीं देते,पैसों के लालच में बीच-बीच में लाइन सही करने के लिए सिट डाउन भी ले लेते हैं जिससे बिजली सही तरीके से नहीं मिल पाती है, बिजली की समस्या से परेशान होकर क्षेत्र की जनता अब ऊब चुकी है।प्रदेश सरकार का ग्रामीण इलाके को 18 घंटे बिजली आपूर्ति करने का दावा पूरी तरह से फेल हो चुका है, क्षेत्र की जनता और किसान बिजली की समस्या से परेशान हैं। किसानों की खेती बिजली न मिल पाने के कारण सूखने की कगार पर है, बिजली की समस्या से आजिज आकर क्षेत्र की जनता ने अब पावर हाउस का घेराव करनें का मन बना चुकी है।

*क्या कहते हैं जिम्मेदार,*

बिजली विभाग के एसडीओ फूलचंद भारतीय का कहना है कि बिजली आपूर्ति की जाती है, लेकिन पावर हाउस से पांच फीडरों को एक साथ बिजली की आपूर्ति नहीं की जा सकती, अगर सभी फीडरों की आपूर्ति चालू कर दी जाती है तो 33 हजार केवीए की लाइन टूट जाती है ,इसलिए सभी फीडरों को एक साथ बिजली की आपूर्ति नहीं की जा सकती, बेरागढीवा स्तिथ पावर हाउस का कार्य चल रहा है बन जाने के बाद बिजली की समस्या दूर हो पाएगी।