ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
प्रांतीय रक्षक दल के साथ इतना भेदभाव क्यों
August 30, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

गोण्डा।पीआरडी जवान देश की सेवा करते हुये अपने परिवार को दूसरों के सहारे छोड़ कर चले आते हैं मगर उनका विभाग के द्वारा ना ही किसी प्रकार का बीमा ना ही विभाग से किसी प्रकार की सहायता किसी भी पीआरडी जवान को दी जाती है सरकार से मेरा यह अनुरोध है कि जिस तरीके से ट्रैफिक सिपाही के साथ कंधे से कंधा मिलाकर 8 घंटा पीआरडी जवान ड्यूटी करता है ।

लोकसभा या विधानसभा चुनाव में प्रांतीय रक्षक दल (पीआरडी) जवान भी अहम भूमिका निभाते हैं मगर आखिर इनके साथ इतना भेदभाव क्यों किया जा रह है क्या  पीआरडी जवान के परिवार से उनका कोई नाता नहीं है क्या पीआरडी के पास बीबी बच्चे नहीं है या उसके पास माता-पिता नहीं है क्या परिवार का इकलौता चिराग है पीआरडी का जवान शहीद हो जाता है मगर उनके परिवार के लिए किसी भी प्रकार की कोई सहायता नहीं दी जाती।
मुख्यमंत्री से कहना चाहूंगा यूपी के 75 जनपदों के पीआरडी जवान का दैनिक भत्ता 375 मिलता हैं मगर फिर भी अपनी जान की फिक्र ना करते हुए देश की सेवा मे लगा रहता है और कुछ ना कहने से पहले यूपी के 75 जनपदों के पीआरडी जवानों का  अभिनंदन करता हूं और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  से कहना चाहता हूं कि हमारे पीआरडी भाइयों और उनके परिवार के बारे में कुछ सोचे जिससे उनका और उनके परिवार का जीवन निर्वाह हो सके।