ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
पत्रकार कमल श्रीवास्तव को नहीं मिल रहा न्याय गढ़ी कनौरा के दबंगों द्वारा बना है जान का खतरा
August 26, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश


लखनऊ। थाना आलमबाग के गढ़ी कनौरा निवासी दैनिक अखबार के पत्रकार कमल कुमार श्रीवास्तव ने मोहल्ले के लोगों द्वारा नालियों को बन्द करने की शिकायत क्षेत्रीय पार्षद को पूर्व में ही दी गई थी, दिनांक 29 फरवरी 2020 को पार्षद द्वारा मौका का निरीक्षण करते हु, पार्षद ने 1076 (मा0 मुख्यमंत्री के पार्टल पर) पर कमल कुमार श्रीवास्व कोे शिकायत दर्ज कराने को कहा, पार्षद के सामने ही शिकायत 1076 पर दर्ज कराई गई थी। 01 अप्रैल 2020 को कमल कुमार श्रीवास्तव के पास नगर निगम जोन- 2 से सुबह लगभग 10 बजे नगर निगम के सूरज कुमार (सुपरवाइजर) का फोन आया कि मैं जाँच के लिए आ रहा हूँ। कमल बाहर निकल कर गली का निरीक्षण करा ही रहा था तभी जय प्रकाश की पत्नी व दोनो पुत्र अभिषेक व मानवेन्द्र बाहर निकल कर जोर-जोर से चिल्लाते हुए कमल श्रीवास्तव को गालियाँ देने लगे उसी समय जय प्रकाश भी आ गया और कमल को जान से मारने धमकी दी इतने में जय प्रकाश के बड़े लड़के अभिषेक ने कमल की बड़ी बहन को थप्पड़ मार दिया, कमल श्रीवास्तव ने बताया कि जय प्रकाश ने बहुत ही अभद्र गालियाँ मेरी बहन को दिया जो कि बताने योग्य नहीं है। जब प्रार्थी न्याय हेतु आलमबाग थाने पहुँच कर इसकी सूचना दी, थाने द्वारा प्रार्थी को लिखित सूचना देने को कहा गया कमल श्रीवास्तव ने बताया कि मैं प्रार्थना पत्र लिख रहा था तभी वहाँ से थाने द्वारा चौकी इन्चार्ज गढ़ीकनौरा को सूचित किया गया। चौकी इन्चार्ज द्वारा मौका मुआयना किये बिना ही, सत्य को जाने बिना ही जय प्रकाश के कहने पर भतीजे को भी थाने ले आये। चौकी इंचार्ज द्वारा मेरे प्रार्थना पत्र को बिना पढ़े ही मुझे गालियाँ दी गई पुलिस द्वारा जय प्रकाश का पक्ष लिया जाने लगा जब कमल श्रीवास्तव द्वारा आपत्ति जतायी गई तब पुलिस ने धारा 151/107/116 लगाकर रिपोर्ट दर्ज कर जमानत कराने को भेज दिया। जब कमल श्रीवास्वत को न्याय नही मिला तो उनके द्वारा पुनः मा0 मुख्यमंत्री को प्रार्थना पत्र दिया गया जिस पर पुलिस द्वारा गलत आख्या लगाकर प्रार्थी को ही दोषी बना रही है। नगर निगम के अधिकारियों द्वारा अभी तक केवल जाँच की गई लेकिन ना तो नालियों को खुलवाया गया और न ही नालियों को बन्द करने वालों के विरूद्व कोई कार्यवाही की गई। कमल श्रीवास्तव मानसिक रूप से परेशान है तथा मोहल्ले के (जिनके द्वारा नाली बन्द की गई है) दबंगों द्वारा जान के खतरा के कारण भयभीत है।
कही यह घटना बलिया बाला रूप न लेले।