ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
पांचवीं पास युवक ने गैंग बनाकर दो साल में दो करोड़ रुपये ठगे, एक हजार लोग बने शिकार
August 23, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

आगरा।विशेष कार्य बल (एसटीएफ) ने शुक्रवार रात को ऑनलाइन शापिंग साइट पर विज्ञापन देकर ठगी करने वाले भरतपुर के गैंग के सरगना शकील खान सहित पांच साइबर अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया। ये सभी ताजगंज के गांव बुढ़ाना रोड से पकड़ गए। सरगना पांचवीं पास है। यह गैंग दो साल में एक हजार से अधिक लोगों से दो करोड़ से ज्यादा की ठगी कर चुके हैं। एसटीएफ निरीक्षक अशोक कुमार के मुताबिक, मुखबिर से सूचना मिली थी कि एक गैंग लोगों से ठगी कर रहा है। इस पर टीम को लगाया गया। शुक्रवार रात को पुलिस को सूचना मिली कि थाना ताजगंज के तोरा चैकी क्षेत्र में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के आगे बुढ़ाना गांव रोड पर आ रहे हैं। इस पर टीम ने घेराबंदी की। दो बदमाश पल्सर बाइक और तीन सेंट्रो कार में घेराबंदी के बाद पकड़ लिए गए।
 *कमीशन पर लेते थे खाते* 
गैंग का सरगना शकील खान है। वो पांचवीं पास है। सीधे-साधे लोगों को फंसाता है। उसने चार साथियों को कमीशन रखा था। वो खाते किराये पर लेने का काम करते थे। वो गरीब लोगों को सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने के नाम पर खाते खुलवा लेते थे। लोगों से एटीएम कार्ड, आईएफएसी कोड लेते थे। खातों में रकम जमा करा लेते थे। कमीशन के रूप में दस से 15 हजार रुपये खाता धारकों को देते थे। यह लोगों को झांसे में लेकर खाते में पैसा जमा कराकर निकाल लेता था। आरोपियों के खिलाफ थाना ताजगंज में मुकदमा दर्ज कराया गया है। 
*यह है तरीका*
गैंग के सभी सदस्य डिजिटल लेन-देन करते हैं। एक महीने में लगभग 12 लाख तक कमाते हैं। दो साल से यह काम करने में लगे हैं। यह लोग ओएलएक्स पर गाड़ियों के विज्ञापन देते हैं। उनकी फोटो डालते थे। जो लोग कॉल करते हैं, उनको फायदे बताते हैं। गाड़ी पसंद करने पर टोकन मनी के रूप में रकम अपने खाते डलवा लेते हैं। एमेजॉन पर भी शापिंग करने वालों को झांसे में लेते हैं। उन्हें सामान के साथ ही गिफ्ट की बात कहते हैं। इसके बाद एडवांस के रूप में रकम अपने खातों में जमा कराते थे। गैंग ने उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश और हरियाणा के लोगों को ठगा है। 
*इनकी हुई गिरफ्तार* 
- शकील खान निवासी गांव कलतरिया, शहसन, थाना जुरहैरा, भरतपुर। 
- लक्ष्मीनारायण गौड़ निवासी कामा, भरतपुर। 
- सतीश चंद्र चैधरी निवासी चिकसाना, भरतपुर। 
- बंशी लाल चैधरी निवासी मऊ, दयालबाग, थाना न्यू आगरा। 
- सुनील कुमार निवासी श्याम नगर, मथुरा गेट, भरतपुर। 
यह हुई बरामदगी 
- एक पासबुक, एक फिंगर अनलॉक मशीन, एक स्वैप मशीन, एक मुहर, 13 एटीएम कार्ड, छह मोबाइल, एक बाइक, एक सेंट्रो कार, पांच हजार रुपये।