ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
पांच महीने बाद खराब हुई दिल्ली की हवा, 2-3 दिन यही स्थिति रहने की संभावना
October 9, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

पांच महीने बाद खराब हुई दिल्ली की हवा, 2-3 दिन यही स्थिति रहने की संभावना

नई दिल्ली। पहले लॉकडाउन और बाद में मानसून की वजह से दिल्ली के लोगों को मिला अच्छी हवा का तोहफा अब समाप्त होता दिख रहा है। बुधवार के दिन पांच महीने बाद दिल्ली की हवा खराब श्रेणी में पहुंच गई। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक दिन भर का औसत सूचकांक 216 के अंक पर रहा। दिल्ली के ज्यादातर हिस्सों का वायु गुणवत्ता सूचकांक दो सौ के अंक के ऊपर है। सफर की मानें तो अगले दो-तीन दिन यही स्थिति रहने की संभावना है।

राजधानी दिल्ली के लोगों को इस साल बेहद अच्छी हवा में सांस लेने का मौका मिला। जानकारों की मानें तो इससे पहले कभी भी सात महीने तक लगातार प्रदूषण रहित इतनी अच्छी हवा नहीं थी। हवा में हर समय धूल और धुएं का प्रदूषण मौजूद रहता था। लेकिन, इस साल मौसम और लॉकडाउन के चलते दिल्ली के लोगों को लगातार साफ-सुथरी हवा मिली। लॉकडाउन से पहले ही लगातार आने वाले पश्चिमी विक्षोभों के चलते हवा साफ रही। तीन मार्च को दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक खराब श्रेणी में था। जबकि, इसके बाद 22 मार्च को लगाए गए जनता कर्फ्यू और 25 मार्च से शुरू हुए लॉकडाउन से हवा बेहद साफ सुथरी हो गई।

इंसानी गतिविधियों के ठप पड़ जाने से हवा में धूल और धुएं लगभग पूरी तरह से समाप्त हो गई। लेकिन, मई के महीने में राजस्थान की ओर से आने वाली धूल भरी हवाओं के चलते 18 और 19 मई को हवा खराब श्रेणी में पहुंची थी। लेकिन, यह दौर सिर्फ दो दिन रहा। इसके बाद से कोई भी दिन ऐसा नहीं रहा, जब लोगों को प्रदूषण से भरी खराब हवा में सांस लेनी पड़ी हो।

300 से ज्यादा जगहों पर जल रही पराली
दिल्ली-एनसीआर के वातावरण में अब पंजाब, हरियाणा और पाकिस्तान के सीमावर्ती हिस्से में जलाई जाने वाली पराली का असर दिखने लगा है। केन्द्र द्वारा संचालित संस्था सफर ने छह अक्तूबर के दिन पराली जलाई जाने की 336 घटनाओं को दर्ज किया है। दिल्ली-एनसीआर की हवा में इसका असर दिखने लगा है। सफर का अनुमान है कि अगले तीन दिनों के बीच दिल्ली की हवा में प्रदूषण का स्तर खराब श्रेणी में बना रह सकता है।

31 अगस्त का दिन सबसे साफ
इस बीच में 31 अगस्त के दिन दिल्ली की हवा सबसे ज्यादा साफ-सुथरी रही। इस दिन वायु गुणवत्ता सूचकांक 41 के अंक पर रिकॉर्ड किया गया। बीते छह सालों में यह सबसे साफ-सुथरा दिन रहा था। इससे पहले 28 मार्च के दिन भी वायु गुणवत्ता सूचकांक 45 के अंक पर रहा था।