ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
नशा तस्करों के लिए बिछाए जाल में फंसे एक दर्जन से अधिक पुलिसवाले
October 10, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

अंबिकापुर, नशा तस्करों के खिलाफ बिछाए गए जाल में पुलिसवाले धड़ाधड़ फंस रहे हैं। अंबिकापुर के आइजी रतनलाल डांगी के निर्देश पर पिछले 10 दिनों से पुलिसवालों के फोन काल की पड़ताल हो रही है। तस्करों से रिश्ते के कारण अभी तक दो एएसआइ निलंबित हो चुके हैं। एक थाना प्रभारी समेत 12 पुलिसकर्मी लाइन हाजिर किए जा चुके हैं। साथ ही तस्कर के साथ 29 बार बात करने वाले सिपाही को बर्खास्त कर दिया गया है। पुलिस द्वारा अपराधियों का काल डिटेल निकलवाकर जांच की खबर अक्सर सुनने को मिलती है, लेकिन सरगुजा जिले में पुलिसवालों के मोबाइल कनेक्शन ही निशाने पर आ गए हैं।

गांजा, शराब, नशे में प्रयुक्त दवाओं, इंजेक्शन और ब्राउन शुगर सहित अन्य नशीले पदार्थो की तस्करी में गठजोड़ तोड़ने की कार्रवाई शुरू होते ही पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया है। आशंका है कि सौ से अधिक पुलिसवाले इसमें फंसेंगे। झारखंड, ओडिशा, उत्तर प्रदेश और बिहार से नजदीक होने के कारण अंबिकापुर पिछले कुछ में समय सप्लाई चेन वाला शहर बनकर उभरा है।अंतरराज्यीय गिरोहों के सदस्य अंबिकापुर होते हुए नशीले पदार्थो का परिवहन करते हैं। ऐसे सामने आया तस्कर और पुलिसकर्मियों का संबंध गांधीनगर थाना क्षेत्र में महिला व पुरष नशीले इंजेक्शन की बड़ी खेप के साथ पकड़े गए तो कोतवाली थाना क्षेत्र में गांजा के साथ मां-बेटे गिरफ्तार हुए। पुलिसकर्मियों के संरक्षण में अवैध कारोबार की शिकायत को प्रमाणित करने के लिए आरोपितों का काल डिटेल खंगाला गया। इसमें कई पुलिसकर्मियों और तस्करों के बीच बातचीत का पता चला।