ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
नरैनी फ़ीडर की अघोषित बिजली कटौती से आजिज आ गएं अन्नदाता और ग्रामीण
September 17, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 


शासन के द्वारा किये ग्रामीण क्षेत्रों में 18 घँटे निर्बाध बिजली के दावों को मुंह चिढ़ा रही , 1 से 2 घँटे की बिजली आपूर्ति

फतेहपुर।जिले में इन दिनों सामान्य से अधिक तापमान बढ़ने से पड़ रही उमस भरी गर्मी से सामान्य जन जीवन , पशु पक्षी बेहाल हैं , बारिश न होने की वजह से अन्नदाता को अपनी धान की फसल बचाने के लिए बिजली न मिलने की वजह से सूद में कर्ज लेकर डीजल पंपिंग सेट आदि साधनों से अपनी फसल को बचाने के मजबूर होना पड़ रहा हैं ।

33/11 बिजली पॉवर हाउस असोथर से ग्रामीण क्षेत्रों के 6 फीडरों नरैनी , जरौली , थरियांव , गाजीपुर , घरवासीपुर व असोथर टॉउन को बिजली सप्लाई दी जाती हैं , इसके पूर्व बिजली विभाग द्वारा अन्नदाताओं की समस्याओं को देखते हुए डबल रोस्टर में 24 घँटे बिजली दी जा रही थीं , पर इसमें जर्जर हालत में लाइन होने के कारण फाल्ट , ब्रेकडाउन होने की वजह से पॉवर हाउस से संचालित फीडरों को बमुश्किल 10 से 12 घँटे ही बिजली मिल रही थी , पर शासन द्वारा डबल रोस्टर बंद करने के बाद यह बिजली समस्या की स्थिति और विकराल हो गई हैं , इन दिनों असोथर पॉवर हॉउस के नरैनी बिजली न मिलने की वजह से बहुत बुरे हालात हैं , फ़ीडर में ओवरलोड़ और लो वॉल्टेज की वजह से निजी व सरकारी नलकूप नहीं चल पा रहें हैं , गरीब किसान व्यक्तिगत रूप से सूद पर कर्ज लेकर अपनी धान की फसल को बचाने को मजबूर हैं , वही ओवरलोड़ की वजह से रोस्टर के मुताबिक भी नरैनी फ़ीडर को बिजली 3 से 4 घँटे भी नहीं मिल पा रही हैं , इस उमस भरी गर्मी उपभोक्ता परेशान हैं काफी पुरानी व जीर्ण शीर्ण हो चुकी जर्जर लाईन प्रतिदिन दर्जनों बार ट्रिपिंग होती हैं , व बमुश्किल सही तरीके से एक से दो घंटे भी उपभोक्ताओं को बिजली नहीं मिल पा रही हैं। 

बिजली विभाग की लापरवाही से पुलिस प्रशासन भी परेशान

इन दिनों असोथर पॉवर हॉउस कोई भी ऐसा दिन व रात्रि न बीतती होगी , जिस दिन उपभोक्ता आकर बिजली के लिए बवाल न काटते हो , कोई अप्रिय घटना य स्थिति न हो जाएं इस वजह से प्रतिदिन असोथर पुलिस को असोथर पॉवर हॉउस आकर बिजली के लिए हंगामा मचा रहें किसानों को समझा बुझा कर वापस भेजना पड़ता हैं , एक पुलिस अधिकारी ने नाम न छपाने की शर्त पर बताया कि हम लोग स्वयं इस बिजली विभाग लापरवाही से परेशान हो गएं हैं।

विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों के फोन या तो स्विचऑफ या नॉट रीचबल

असोथर पॉवर हॉउस के जिम्मेदार अधिकारियों के हालात यह हैं कि अगर कोई बिजली समस्या ब्रेकडाउन आदि पर कोई जानकारी लेने चाहे तो जिम्मेदार अधिकारियों व पॉवर हाउस के कार्यकाल का नंबर भी स्विच ऑफ या नॉट रीचबल ही रहेगा , गलती से कभी कभार लग भी गया तो फोन उठता ही नहीं , इसी वजह से क्षेत्र के लोगो मजबूरन जिले के आला अधिकारियों अधीक्षण अभियंता , एक्ससीएन , एसडीओ को अपनी समस्या बतानी पड़ती हैं ।
नरैनी फ़ीडर सहित अन्य फीडरों के उपभोक्ताओं का कहना हैं कि अगर बिजली आपूर्ति का यही हाल रहा तो हम सब को एक बड़े आन्दोलन के लिए मजबूर होना पड़ेगा।