ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
नक्सलियों के खतरनाक मंसूबों को आइटीबीपी के जवानों ने किया नाकाम, पांच किलो का IED बम किया गया डिफ्यूज
October 9, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

छत्तीसगढ़ में नकस्लियों के खतरनाक मंसूबों पर आइटीबीपी के जवानों ने पानी फेर दिया। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) की 40वीं बटालियन ने कोरबा जंगल के बूभन्भाट के पास एक संयुक्त तलाशी अभियान चलाया। इस दौरान आइटीबीपी के जवानों को 5 किलो वजन का आइइडी बम बरामद हुआ, जिसे जवानों ने तुरंत ही निष्क्रिय (डिफ्यूज) कर दिया। 

बता दें कि छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद अपने अंतिम दिन गिन रहा है। यहां पुलिस और सुरक्षा बल अब चप्पे-चप्पे तक पहुंच बना चुके हैं, जिससे नक्सलियों में बौखलाहट बढ़ रही है। इसी बौखलाहट को निकालने के लिए नक्सली इस तरह की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। छत्तीसगढ़ से आए दिन नक्सली द्वारा मासूम लोगों पर हमला करने की खबरे सामने आती रहती हैं

प्रेशर बम की चपेट में आने से दंपत्ती गंभीर रूप से घायल

वहीं, आज ही छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले के गुडसे गांव के समीप नक्सलियों द्वारा लगाए गए प्रेशर बम की चपेट में आने से दंपत्ती गंभीर रूप से घायल हो गए। शुक्रवार की सुबह ग्रामीण दंपत्ती काम घर से रिश्तेदार के यहां जाने के लिए पैदल निकले थे, इसी दौरान कच्चे रास्ते पर लगाए प्रेशर बम पर उनका पैर पड़ने से विष्फोट हो गया। घायलों को उपचार के लिए अस्पताल में दाखिल कराया गया।

नक्सलियों ने राजनांदगांव जिले में सड़क निर्माण कार्य में लगी गाड़ियों पर लगाई थी आग

बता दें कि इसके पहले छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले में नक्सलियों ने सड़क निर्माण कार्य में लगी पांच गाड़ियों में आग लगा दी थी। जिले के मोहला पुलिस स्टेश की सीमा के अंतर्गत पारडी और परविडीह गांव के बीच सड़क निर्माण किया जा रहा था। इस घटना की अधिक जानकारी देते हुए राजनांदगांव के एसपी डी श्रवण ने बताया था कि नक्सलियों द्वारा जलाई गई गाड़ियों में एक चेन माउंटेन वाहन, दो मिक्सर मशीन और दो ग्रेडर यानी कुल पांच गाड़ियों आग लगाई गई थी।