ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
नहरों में पानी न आने से किसान मायूस
June 26, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश


गिरिराज शुक्ला
बिंदकी फतेहपुर,26जून। 

नहरों में पानी आने से धान की नर्सरी व रोपाई का काम  न होपाने से किसान मायूस है।नहरों में अगर  पानी न छोडा गया तो किसान धान की खेती न हो पाने से भुखमरी का शिकार हो जाएगा।किसानों ने तत्काल प्रभाव से नहरों में पानी छोड़े जाने की मांग की है।
मालूम हो कि लंबे समय से नहरों में पानी नहीं छोड़ा गया है ।जिससे सिंचाई ना हो पाने से खरीफ की सभी फसलें खराब हो गई है ।वही अधिकांश किसान पानी के अभाव में धान की नर्सरी तैयार नहीं कर पाए हैं ।जिससेधान रोपाई का काम पिछडता जा रहा  है।
देवमई विकास खण्ड के अधिकांश किसान राम गंगा निचली नहर पर आश्रित हैं। इस नहर में पिछले दो महीनों से विभाग द्वारा पानी नहीं छोडा गया है। जिससे नहर में धूल उड रही है। नहर में पानी न आने से इस क्षेत्र के अधिकांश किसान धान की नर्सरी नही तैयार कर पाए है। जिससे धान की रोपाई का काम नही हो पा रहा है। पानी के अभाव में ज्वार, बाजरा, अरहर आदि की बुआई का काम भी समय रहते नही हो पाया है।फसलों के अभाव में किसान मायूस है। क्षेत्र के किसान कामता प्रसाद तिवारी, विजय तिवारी, मुन्ना प्रजाति, ओम प्रकाश प्रजाति मंत्री,संतोष मिश्र, रमेश शुक्ल, सुरेश कुमार शुक्ल, ओम प्रकाश तिवारी आदि किसानों ने जिले के अधिकारियों से नहरों में तत्काल पानी छोडे जाने की मांग किया है ।जिससे धान की नर्सरी की बुआई व रोपाई समय से की जा सके।