ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
मंडुआडीह का नाम हुआ बनारस, लेकिन बोर्ड नही बदला जाएगा
September 21, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

(न्यूज़)।पूर्वोत्तर रेलवे के मंडुवाडीह स्टेशन का नामकरण बनारस हो गया है जिसके के बाद स्टेशन पर तमाम जगहों पर बनारस की पट्टिकाएं और होर्डिंग लगाएं गए, लेकिन अब उन्हें हटाकर फिर से मंडुवाडीह नाम लिखा जा रहा है. ऐसा इसलिए कि रेलवे के सिस्टम में अभी पुराना मंडुवाडीह स्टेशन का कोड एमयूवी ही शो कर रहा है. जबकि बनारस नाम से कोड बीएसबीएस जारी किया गया है।
आरक्षण के समय यात्रियों में कोड को लेकर काफी भ्रम की स्थिति रही. यह देखते हुए रेलवे प्रशासन ने सिस्टम अपग्रेड नहीं होने तक मंडुवाडीह नाम ही चलने का फैसला लिया है।
 पूर्वोत्तर रेलवे वाराणसी मंडल के पीआरओ अशोक कुमार ने बताया कि मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन पर ट्रायल बेस पर एक बोर्ड पर बनारस लिखा गया था।
अब यह निर्णय लिया गया है कि पेंटिंग बोर्ड की जगह रेट्रोरिफ्लेक्टिव बोर्ड लगाया जाएगा. वहीं पैसेंजर रिजर्वेशन सिस्टम में बनारस नाम एवं कोड फीड होने के बाद रेलवे बोर्ड से निर्देश मिलते ही नाम बदलने की कार्यवाही शुरू की जाएगी।
मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन पर मंडल रेल प्रबंधक के निरीक्षण के दौरान ट्रायल के तौर पर एक बोर्ड पर बनारस लिखा गया था।
जिसे देखने के बाद मंडुवाडीह के उच्च मानक को ध्यान में रख कर यह निर्णय लिया गया है कि पेंटिंग बोर्ड की जगह रेट्रोरिफ्लेक्टिव बोर्ड लगाया जाए. इससे दिन एवं रात्रि में लाइट पड़ने पर स्टेशन की सुंदरता में और निखार आए।