ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
मल्लावां इंस्पेक्टर कमलेश यादव हुए लाइन हाजिर
August 16, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

** 

 हरदोई। मल्लावा नगर पालिका परिषद के वरिष्ठ लिपिक राजेश कुमार सिंह की धर्मपत्नी के नाम चल रहे शराब ठेके पर मिलावटी और नकली शराब पाए जाने पर दर्ज मुकदमे के सभी अभियुक्तों को थाने पर से ही जमानत दे देने समेत कई अन्य संगीन आरोपों के चलते पुलिस अधीक्षक अमित कुमार ने उन्हें लाइन हाजिर कर दिया। आपको बताते चलें कि जिलाधिकारी के निर्देश पर उक्त शराब ठेके पर जब छापा मारा गया था। मिलावटी शराब ,खाली शीशी, रैपर, ढक्कन बरामद हुए । पकड़े गए सेल्समैन ने स्पष्ट रूप से बताया कि शराब की ठेकेदार के पति मल्लावा नगरपालिका के बड़े बाबू राजेश कुमार सिंह के कहने पर ही यह शराब में मिलावट करने का धंधा करता था।  यह मिलावटी शराब जानलेवा भी हो सकती है थी ।  जिला प्रशासन के निर्देश पर आबकारी विभाग की टीम ने शराब ठेके पर पकड़े गए मिलावटी शराब पर ढक्कन व शीशी को सील कर दिया था और अभियुक्तों के खिलाफ नामजद मुकदमा पंजीकृत करा दिया गया था । इसमें दो अभियुक्त पकड़े भी गए थे। देर रात स्पेक्टर मल्लावा ने राजेश कुमार सिंह के घर पर छापा भी मारा था ,वहां पर कुछ लेनदेन भी हुआ। जिसके चलते उसी दिन रात में ही थाने पर से सभी अभियुक्तों को जमानत दे दी गई ।  इंस्पेक्टर मल्लावा ने बताया था कि नगर पालिका के बड़े बाबू राजेश सिंह शराब के ठेकेदार उनकी धर्मपत्नी समेत दो अन्य के विरुद्ध मल्लावा थाने पर दर्ज हुआ मुकदमा जमानत योग्य था ,इसलिए  जमानत देने का काम किया गया था । सवाल यह उठता था कि जब 5 लीटर कच्ची शराब या एक तमंचे के आरोपित व्यक्ति को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा सकता  है  तो आम जनता के जीवन से खिलवाड़ करने व मिलावटी शराब बेचने के तथाकथित आरोपी को देर रात में थाने से जमानत देने की जरूरत क्या पड़ गई थी?