ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
मकदुमपुर  गांव में बिना गड्ढों के बने शौचालय
September 22, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

मकदुमपुर  गांव में बिना गड्ढों के बने शौचालय

फतेहपुर, प्रदेश में सरकार जहां एक ओर घर-घर पानी बिजली और गैस  शौचालय पहुंचाने की बात कर रही है लोगों को घर-घर स्वास्थ्य सुविधा पहुंचाने का दावा कर रही है

वही शहर से गांव की ओर जाने वाले रास्ते इन वादों की पोल खोलते हुए नजर आ रहे हैं ऐसा ही नजारा देखने को मिला ग्राम पंचायत मखदूमपुर में जहां पर ग्राम का विकास  के हाल यह है

कि वहां लोगो  शौचक्रिया के लिए घर से बाहर निकलना पड़ रहा है मुश्किल है लेकिन ग्राम प्रधान अपनी गैर जिम्मेदार हरकतों से बाज नहीं आ रहा है न ही वहां की ओर विधायक न ही  सांसद इस पक्ष में किसी तरह का कोई ठोस कदम उठा रहे हैं

क्या इसी तरह के हाल से बने रहना पड़ेगा ग्रामीणों को क्या जिस तरह सोने का चिड़िया हुआ करता था भारत दे क्या इसी तरह दल दल बना रहेगा ग्रामीणों ने भले ही इसके खिलाफ आवाज उठाई हो लेकिन वह अपने हाथों से इसका निर्माण नहीं कर सकते जिसके लिए सरकार को ही ठोस कदम उठाने होंगे तभी ग्रामीणों को राहत मिल सकेगी
 बहुआ विकासखंड के मखदुमपुर गांव विकास के कोसों दूर है हालात यह है कि गांव में चारों ओर गंदगी का साम्राज्य जगह जगह कूड़े के ढेर व बजबजाती नालियों के चलते ग्रामीण बहुत ही दिक्कत होती हैं  वहीं पर लगे एक हैंड पाइप की  या दुर्दशा है कि  सालों से बिगड़े पड़े  होने के कारण लोगों को पानी की बहुत ही दिक्कत होती है जानकारी के अनुसार मकदुमपुर  गांव में बने शौचालय मे ना तो दरवाजे लगवाए गए और ना ही गड्ढे बनवाए गए वही लोगों का कहना है कि मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत आई कॉलोनी में अभी तक किसी भी लाभार्थी को लाभ नहीं प्राप्त हुआ लोगों का कहना है कि वही एक ही परिवार के एक एक व्यक्ति को दो दो बार आवास में नाम आया है वही जो इसके पात्र हैं उन तक आवास नहीं पहुंच रहे हैं जहां तक लोगों का यह भी कहना है कि शौचालय के लिए आया धन प्रधान द्वारा खुद ही बनवा कर दिया जा रहा है अगर लोग कहते हैं कि लाभार्थी को पैसा दिया जाए तो प्रधान द्वारा साफ इंकार कर दिया जाता है वही बने शौचालय पर भी गड्ढों का कोई निर्माण नहीं हुआ और शौचालय बनकर तैयार कर दिए गए हैं बिना गड्ढों के शौचालय तैयार तो किए गए परंतु हुए निर्माण में घटिया समान लगाकर निर्माण कर दिया गया है लोगों का कहना है कि आजतक गांव में एक भी साफ सफाई भी नहीं हुई है अगर लोग प्रधान से शिकायत करते हैं तो प्रधान कहता है कि जो होगा देखा जाएगा एक ओर  सरकार जहां गांव गांव तक सुलभ शौचालय ग्रामीण आवास विधवा पेंसिल आदि व्यवस्थाएं मुहैया कराने की बात करती है वहीं पर ग्राम प्रधान द्वारा सरकार की मंशा पर पानी फिर से नजर आ रहे हैं जानकारी के अनुसार जब प्रधान से बात की गई तो प्रधान का साफ कहना है कि विपक्षी पार्टी तो आरोप लगाने का कार्य करेगी मैंने गांव में विकास करवाया है विकास  की घटना साफ जाहिर कर रही है कि कितना विकास कार्य हुआ है कितना नहीं बताने की कोई जरूरत नहीं अगर जांच की जाए तो साफ तौर पर सच्चाई सामने उभर कर आ जाएगी वही एक व्यक्ति का कहना है कि मुझे मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत एक किस्त साढ़ हजार की मिली है और दो साल हो गए अभी तक एक भी रुपए नहीं मिला प्रधान से बात की गई तो प्रधान ने साफ कहा है कि आपका पैसा पूरा आ चुका है अगर पैसा आ चुका है तो कहां गया लाभार्थी के खाते  में भी नहीं आया तो पैसा गया कहां इससे साफ जाहिर होता है कि गांव में बहुत ही बड़ा घोटाला हो रहा है सवाल यह भी उठता है कि अगर सरकार द्वारा पैसा आ चुका है तो पैसा गया का है।