ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
महामारी का हल  होंने के बाद हों परीक्षाएं -एबीवीपी प्रदेशाध्यक्ष
June 24, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश


न्यूज आफ फतेहपुर
कानपुर, 24 जून। 
कोविड 19 के प्रकोप के चलते प्रेस क्लब के कॉन्फ्रेंस हाल को सेनीटाईज करा कर   सोशल डिस्टेन्स  का पालन करते हुए प्रेस क्लब में  आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, कानपुर के प्रदेश अध्यक्ष डॉ0 यतीन्द्र सिंह ने विद्यार्थियों की परीक्षाओं में कोरोना द्वारा आई बाधा, और शिक्षा सत्र कैसे लाइन पर लाया जाये इसी संबंध में एक प्रेस वार्ता की। 
उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश की उच्च शिक्षा पर गौर करें तो 6 केंद्रीय, 31 राज्य, 8 डीम्ड और 29 निजी विश्व विद्यालय मिलाकर कुल 74 विश्वविद्यालय हैं। इनमें कुछ वार्षिक परीक्षा और कुछ सेमेस्टर के आधार पर परीक्षा संपादित कराते हैं। लॉक डाउन के समय वार्षिक परीक्षाएं चल रही थीं, सेमेस्टर वाले तैयारी में लगे थे, परंतु सब गड़बड़ हो गया।    परिषद के प्रदेश अध्यक्ष का कहना है कि जब तक महामारी का कोई हल नहीं निकलता, परीक्षा नहीं होनी चाहिए। अनियंत्रित सत्र को टाइम मैनेजमेंट करके नियमित किया जा सकता है। परिषद ने अपने कुछ सुझाव भी दिये हैं जिसमे उन्होंनो कहा विद्यार्थियों की ऑन लाईन परीक्षा की सुविधा दी जा सकती है,  कम प्रश्न कम समय के आधार पर कराए जायें।,ऑन लाईन ही मूल्यांकन हो। जिन विश्वविद्यालय में 40 से 70 % परीक्षा हो चुकी हैं उनके औसत निकाल कर परीक्षाफल बनाया जाय।वायवा भी ऑन लाईन लिया जाय। एक विषय एक पेपर लागू किया जाय। लोगों के व्यवसाय, रोज़गार चौपट हो गए हैं। अतः सरकार इस बात का ध्यान दे कि केवल ट्यूशन फीस ही लिया जाय। जो छात्र हॉट स्पॉट में हैं उनके लिये  सप्लीमेंट्री पेपर की व्यवस्था हो। छात्रों के समक्ष ऑन लाईन और ऑफ लाइन का ऑप्शन रखा जाए। जहां ऑन लाईन व अन्य व्यवस्था न हो वहाँ पुरानी व्यवस्था लागू किया जा सकता है और केंद्र की संख्या बढ़ाई जा सकती है। UGC, MHRD और अन्य शैक्षिक संस्थाओ की गाइड लाइन के अनुसार अंतिम वर्ष के छात्रों की परीक्षा विभिन्न विकल्पों के आधार पर सम्पन्न कराई जांय।       वार्ता में महानगर मंत्री रोहन गुप्ता, राष्ट्रीय कार्यकरणी सदस्य कु0 ज्योति, प्रान्त संगठन मंत्री कमल नयन, सत्या चौधरी, दिनेश यादव आदि लोग उपस्थित रहे।