ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
मध्य प्रदेश : विचारधारा से युवाओं को लुभा नहीं पा रहे तो वेतन का लालच दे रहे नक्सल
October 6, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

बालाघाट ,जंगल, जमीन और ग्रामीण क्षेत्रों में विकास न होने के नाम पर स्थानीय युवक-युवतियों को गुमराह कर अपने साथ जोड़ने का तरीका विफल होता देख अब नक्सली उन्हें वेतन का लालच दे रहे हैं। शासन- प्रशासन को शोषक बताने की उनकी यह चाल काफी समय से लगातार नाकाम हो रही है, इसलिए नक्सली अब युवाओं को दलम (संगठन) में भर्ती के लिए वेतन देने की बात कह लुभा रहे हैं। यही नहीं, यह लालच बाद में युवाओं के शोषण की वजह भी बन रहा है। यह चौंकाने वाली जानकारी पुलिस गिरफ्त में आए नक्सली बादल ने दी है।

बादल 17 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था। वह करीब दो हफ्तों तक पुलिस रिमांड में रहा। पूछताछ में उसने बताया कि नक्सली ग्रामीणों को रोजगार देने के नाम पर भर्ती कर रहे हैं। पांच से दस हजार रुपये प्रति माह का लालच देकर दलम में भर्ती की जा रही है। बादल ने पुलिस को दलम में भर्ती की छह साल की कहानी भी बताई है। बादल को भी पांच हजार रुपये प्रति माह देने का लालच देकर दलम में लाया गया था। जब उसे कई महीनों तक कथित वेतन नहीं दिया गया, तो वह दलम छोड़कर अपने घर वापस चला गया। इसके बाद नक्सली कमांडर उसे धमकाकर दलम में वापस ले आए।बादल के मुताबिक ऐसे और भी युवक-युवतियां हैं जिन्हें वेतन का लालच देकर, बरगलाकर कर दलम में शामिल कर लिया गया है। उसने पुलिस को बताया कि आदिवासी बहुल ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा, रोजगार के समुचित साधन नहीं होते हैं। जिसका फायदा उठाकर नक्सली यह काम कर रहे हैं। दलम में कुछ समय गुजारने के बाद नक्सलियों का दिया प्रलोभन झूठा साबित होने पर युवक-युवतियां दलम को छोड़ने की कोशिश भी कर रहे हैं, लेकिन नक्सली कमांडरों के डर के चलते वे दलम से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं।