ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
मध्य प्रदेश: मामूली क्लर्क की नौकरी करने वाला शख्स निकला 6 करोड़ रुपये का मालिक, छापे में हुआ खुलासा
September 12, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

मध्य प्रदेश: मामूली क्लर्क की नौकरी करने वाला शख्स निकला 6 करोड़ रुपये का मालिक, छापे में हुआ खुलासा

भोपाल, मध्य प्रदेश के स्कूल शिक्षा विभाग में सहायक ग्रेड-3 लिपिक महेंद्र प्रताप सिंह छह करोड़ रपये का आसामी निकला है। आर्थिक अपराध अन्वेषण प्रकोष्ठ (ईओडब्ल्यू) भोपाल से मिली शिकायत के आधार पर शुक्रवार सुबह ईओडब्ल्यू की रीवा टीम ने शाहपुर थाना के गनिगवा गांव स्थित महेंद्र प्रताप के घर पर दबिश दी। टीम को उसके पास करीब छह करोड़ रपये की संपत्ति होने के दस्तावेज मिले हैं।

शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, पहाड़ी में पदस्थ महेंद्र प्रताप की शिकायत दो दर्जन से अधिक शिक्षकों ने शपथ पत्र के साथ ईओडब्ल्यू की मुख्य शाखा भोपाल में की थी।

महेंद्र के पास इतनी संपत्ति 

एक फा‌र्च्यून कार, दो बोलेरो, दो जेसीबी, तीन ट्रैक्टर, एक बाइक- कुल कीमत करीब दो करोड़ रपये
22 अलग-अलग स्थानों पर खेती योग्य 24 एकड़ जमीन- कीमत करीब 56 लाख रपये।
इंदौर में मकान की कीमत- करीब 35 लाख रपये।
30 हजार वर्गफीट में स्कूल भवन- कीमत करीब 65 लाख रपये
गनिगवा में आलीशान मकान- कीमत करीब 60 लाख रपये
अलग-अलग नामों की 12 पास बैंक पासबुक मिलीईओडब्ल्यू टीम के प्रभारी प्रवीण चतुर्वेदी ने बताया कि महेंद्र के घर से अलग-अलग नामों की 12 बैंक पासबुक मिली हैं। हालांकि इसमें जमा राशि अंकित नहीं है। ये पासबुक हनुमना, रीवा व मनगवां सहित अन्य स्थानों की बैंकों की हैं। सोमवार को बैंक से जानकारी लेने के बाद ही इनमें जमा राशि की जानकारी मिल पाएगी। 

जांच में जुटी टीम

रीवा के एसपी वीरेंद्र जैन ने बताया कि महेंद्र प्रताप सिंह के यहां दी गई दबिश में अब तक करीब छह करोड़ रपये की चल और अचल संपत्ति के दस्तावेज मिले हैं। बैंक पासबुक की राशि व बीमा पॉलिसी का पता लगाया जा रहा है। साथ ही हम विभाग से अभी पता लगाने का प्रयास कर रहे हैं कि लिपिक को अब तक कुल कितना वेतन मिला है।