ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
मामूली विवाद में दबंगों ने भरे चौराहे पर जीप से कुचल कर मार डाला
October 9, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

मामूली विवाद में दबंगों ने भरे चौराहे पर जीप से कुचल कर मार डाला

संत कबीरनगर । संत कबीरनगर के खलीलाबाद कोतवाली क्षेत्र के कुरथिया चौराहे पर आधा दर्जन मनबढ़ों ने जितवापुर के जगदीश (46) पुत्र सजनलाल को पहले मारापीटा। इसके बाद उन्होंने उनके ऊपर हंटर जीप चढ़ाकर कुचल दिया। जगदीश को बचाने आए कुरथिया गांव के अनिल पर भी उन्हाेंने जीप चढ़ा दी, जिससे उनका भी पैर टूट गया। मनबढ़ों का खौफ इतना था कि दोनों वहां घंटे भर पड़े रहे लेकिन कोई उन्हें उठाने नहीं पहुंचा। बाद में गांव वालों को पता चला तो बड़ी संख्या में लोग पहुंचे और दोनों को अस्पताल पहुंचाया। घटना से आक्रोि‍शित ग्रामीणों ने कांटे चौकी पहुंच कर हंगामा किया। ग्रामीणों का आरोप है कि दो मनबढ़ भाइयों का पिता चौकी का दलाल है। यही कारण है कि इतनी बड़ी घटना होने के बाद भी पुलिस मौके पर नहीं पहुंची। रात दस बजे चिकित्सकों ने जगदीश को मृत घोषित कर दिया। गुरुवार को कोतवाली पुलिस ने विकास चौधरी, आलोक चौधरी और सद्दाम हुसैन को नामजद करते हुए आठ अज्ञात लोगों पर मुकदमा दर्ज किया। जगदीश के भतीजे मनीष, अरविंद और सुनील ने बताया कि उनकी बहन संगीता की शादी बस्ती जनपद के मुंडेरवा थाना क्षेत्र के कांची डड़वा गांव में हुई है। उसका पति बृजेश उसे प्रताड़ित करता है। 10 दिन पहले पहले सुनील और अरविंद बहन को लेने गए थे। तब बहनोई बृजेश ने बहन के साथ उन दोनों को भी मारापीटा था। बहन अपने मायके जितवापुर आ गई थी। बीते मंगलवार को बृजेश अपने मित्र खलीलाबाद कोतवाली क्षेत्र के चकिया निवासी विकास और आलोक चौधरी पुत्रगण रामजी चौधरी और टेमा रहमत के सद्दाम पुत्र मशहूर आलम समेत दर्जनभर युवकों के साथ अपनी पत्नी को विदा कराने गया था। तब ग्रामीणों ने उन्हें वहां से भगा दिया था। इसी बात से मनबढ़ नाराज थे और ग्रामीणों को मारने के लिए ढूंढ रहे थे। जितवापुर के राजपाल, श्यामसुंदर, जोगेंद्र, अमरपाल चौधरी, राघवेंद्र प्रताप, रामकरन, अशोक प्रताप, रियाज अहमद खान, अर्जुन, पवन आदि का आरोप है कि कांटे चौकी की पुलिस की शह पर ही मनबढ़ों ने हत्या को अंजाम दिया है। आरोपित विकास और आलोक का पिता रामजी चौधरी चौकी का दलाल है। बिना उसकी इजाजत के कोई मामला दर्ज नहीं होता। गांव के लोगों ने पुलिस को बताया था कि मनबढ़ गांव के लोगों को मारने की धमकी दे रहे हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। ग्रामीणों का आरोप है कि घटना में पुलिस ने गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया है। जबकि चौराहे पर आरोपितों ने जगदीश की हत्या की है। पुलिस आरोपितों को बचाने में लगी है। यदि हत्या का मामला दर्ज नहीं हुआ तो ग्रामीण सड़क पर उतरने का बाध्य होंगे। घटना में शामिल नामजद तीन आरोपितों के साथ आठ अज्ञात लोगों पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस अभियुक्तों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगी। कांटे पुलिस की भूमिका भी भी जांच होगी।