ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
लावारिस वस्तु को छूने से बचें, हो सकता है कोरोना- सीएमओ
July 15, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • कोविड-19 (कोरोना वायरस)


फतेहपुर।

कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण को रोकने के लिए पूरी दुनिया कई तरह के उपाय अपना रही है। लॉकडाउन के साथ ही इसमें सोशल डिस्टेंसिंग का उपाय भी शामिल है। केंद्र व राज्य सरकार सहित प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की सलाह है कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लोग एक दूसरे से दूरी बनाएं। विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए एक-दूसरे से दूरी काफी नहीं है बल्कि अनजान वस्तुओं से भी दूरी बनाना बेहद जरूरी है।
मुख्य चिकित्साधिकारी डा उमाकांत पांडेय का कहना है कि किसी व्यक्ति से सिर्फ दो गज की दूरी बना लेने से ’सोशल डिस्टेंसिंग’ का पूरी तरह पालन नहीं हो जाता है। सोशल डिस्टेंसिंग का मतलब सिर्फ दो इंसानों के बीच की दूरी नही है। बल्कि हर उस सजीव या निर्जीव वस्तु से दूरी है जिसे आप नहीं जानते हैं। यह बात नहीं पता होती कि सड़क और सीढ़ियों पर जिस रेलिंग को हम छू रहे हैं उसे किसी संक्रमित व्यक्ति ने हमसे पहले छुआ है या नहीं। बैंक, ऑफिस या दुकान पर जिस मेज या कुर्सी को हम इस्तेमाल करते हैं, उसे हमसे पहले कोई संक्रमित व्यक्ति छू चुका है या नहीं।
सीएमओ ने बताया कि उस समय को याद करें जब हर जगह लिखा होता था कि किसी अनजान अथवा लावारिस वस्तु को न छुएं वह बम हो सकता है। बिल्कुल वही स्थिति अब है, कोई भी अनजान सतह कोरोना बम हो सकती है। अगर गलती से छू भी लिया तो तुरंत हाथ धोएं या सेनेटाइजर से साफ कर लें। वायरस अब दो व्यक्तियों के संपर्क से भी ज्यादा किसी सतह को अनजाने में छूने से ज्यादा फैल रहा है। इसलिए दूरी बनाए रखने के साथ-साथ किसी भी अनजानी चीज या सतह को छूने से बचें।
इनसेट 
जमीन और सीढ़ियों पर बिल्कुल न बैठें
मार्केट में लोग किसी भी अनजाने स्कूटर या कार का सहारा लेकर खड़े रहते हैं। सड़क किनारे बनी बेंच या सीढ़ियों पर बैठ जाते हैं, यह भी पूरी तरह गलत है। कहीं भी जायें तो लिफ्ट का उपयोग न करें। अगर कोई ऑपरेटर है तभी लिफ्ट का उपयोग करें ताकि आप लिफ्ट के सतह को न छुएं, थोड़ा सीढ़ियां चढ़ लेंगे तो स्वस्थ रहेंगे। सब मिलकर समझदारी से लड़ेंगे तो आसानी से कोरोना को हरा सकते हैं।