ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
क्षेत्र में संक्रमण बीमारी का प्रकोप तेज,बीमारी की नहीं हो रही रोकथाम।
September 13, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

अमौली/फतेहपुर


संक्रमण रोगों के साथ साथ मौतों का सिलसिला भी लगातार बढ़ता चला जा रहा है। हर साल की तरह इस साल भी सैकड़ों ग्रामीण बच्चों की जान चली गई है। कुछ बच्चे बुखार से मरे तो कुछ श्वसन प्रणाली में आई अवरोध के चलते इस दुनिया को अलविदा कह चुके हैं। पिछले 2 महीने में जनपद में एक दर्जन से ज्यादा बच्चे जिंदगी से जंग हार चुके हैं। फिर भी जिले की स्वास्थ्य विभाग बच्चों की मौतों पर चुप्पी साधे हुए है। हर साल मानसून के दौरान जनपद में संक्रमित बुखार के चलते बच्चों की मौतें होती हैं। पिछले महीने संक्रमण बुखार से मौतों का सिलसिला जनपद के मंगलपुर टकौली गांव से शुरू हुई थी। इसके बाद नोनारा में कई मरीज सामने आए ऐसे ही अमौली क्षेत्र के पिछले करीब दो माह से लगातार नोनारा,चांदपुर, नसेनिया,रोटी,आजमपुर गड़वा आदि गांव में भी संक्रमित बीमारी का कहर जारी है। अभी हाल ही में चांदपुर गांव में एक बच्चे की संक्रमित बीमारी से मृत्यु हो गई।ग्रामीणों द्वारा बताया जा रहा है कि गांवों में स्वास्थ्य विभाग की टीम सिर्फ खानापूर्ति करने आती है और दबे पांव वापस लौट जाती है।पिछले दिनों करीब एक दर्जन ऐसे मरीज मिले जिनकी जांच में डेंगू की पुष्टि हुई थी।लेकिन स्वास्थ्य विभाग ने साफ इनकार कर दिया।स्वास्थ्य विभाग की मानें तो पिछले दो महीने में जितने लोगों बीमारी से मौतें हुई हैं उनमें किसी की भी संक्रमण बुखार से नहीं हुई है।
अगर यह मौतें संक्रमण बुखार से नहीं हुई हैं तो लगातार हो रही मौतें फिर कैसे हुई है?इसे बताने से स्वास्थ्य विभाग मुकरता दिख रहा है।
वही अमौली विकासखंड क्षेत्र के कुम्हारनपुर मजरे मानेपुर गांव में भी संक्रमण बुखार से पिछले दिनों दो मौतें हो चुकी है। कुम्हारनपुर गांव निवासी गोरेलाल की पुत्री विपासनी(13) की   शनिवार को एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया था जहां पर विपासनी की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई थी।
प्राप्त जानकारी के अनुसार कुम्हारनपुर गांव निवासी गोरेलाल की 13 वर्षीय पुत्री विपाशनी चार दिनों से बीमार थी जिस पर परिजनों ने दो दिन पूर्व कानपुर में एक निजी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया था। जहां इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गई।मिली जानकारी के अनुसार इसी गांव में लगभग 15 दिन पूर्व भी दो बच्चों की संक्रमण बीमारी से मौत हो चुकी है। वही परिजन बताते हैं कि गांव के लगभग एक दर्जन लोगों का इलाज कानपुर में चल रहा है। जिनमें से संदीप,सुरेश दीपाली,शशि,इंदु,अनिल आदि लोग भी बुखार से संक्रमित हैं।