ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
कोरोना वायरस से पीड़ित बुजुर्गों में बढ़ रहा कार्डिएक अरेस्ट का खतरा
October 2, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

कोरोना वायरस से पीड़ित बुजुर्गों में बढ़ रहा कार्डिएक अरेस्ट का खतरा

(न्यूज़)शोधकर्ताओं का कहना है कि कोरोना वायरस (कोविड-19) से गंभीर रूप से पीड़ित लोगों में कार्डियक अरेस्ट का खतरा पाया गया है। यह खतरा सबसे ज्यादा 80 साल या ज्यादा उम्र के रोगियों में देखा जा रहा है। अध्ययन के इस निष्कर्ष से उन कोरोना रोगियों की देखभाल पर ज्यादा ध्यान देने में मदद मिल सकती है, जिनकी हालत काफी नाजुक होती है।कार्डियक अरेस्ट में हृदय अचानक काम करना बंद कर देता है। शीघ्र उपचार नहीं होने पर मौत भी हो सकती है।बीएमजे पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, अमेरिका की मिशिगन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने यह निष्कर्ष गंभीर रूप से संक्रमित 18 साल से ज्यादा उम्र के 5,019 लोगों पर किए गए एक शोध के आधार पर निकाला है। इन्हें अमेरिका के 68 अस्पतालों के आइसीयू में भर्ती किया गया था।अध्ययन के नतीजों से यह जाहिर होता है कि आइसीयू में भर्ती किए गए जाने के 14 दिन के अंदर 14 फीसद यानी 701 रोगियों को कार्डियक अरेस्ट का सामना करना पड़ा था।