ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
कोरोना संक्रमण संक्रमण को लेकर लोग बन रहे खतरों खिलाड़ी
July 23, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

बेपरवाह जनपद वासियों की कार्यशैली पर नहीं पड़ रहा कोई अंतर

फतेहपुर ।जिले में कोरोना संक्रमण को लेकर लोग खतरों के खिलाड़ी बन रहे हैं हर दिन निकलने वाले कोरोना मरीजों से बेपरवाह जनपद वासियों की कार्यशैली में कोई भी अंतर नहीं आ रहा है। जिला प्रशासन बिगड़ती जा रही व्यवस्थाओं को पटरी पर लाने के लिए हाथ पैर मारे जा रहा है लेकिन जिस तरह से कोरोना अपना विकराल रूप धारण करता जा रहा है और एक के बाद एक संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ रही है। उससे संक्रमण की भयावहता का अंदाजा सहसा लग जाना चाहिए। इतना ही नहीं प्रयागराज में कोरोना मरीजों के लिए बनाए गए अस्पताल फुल हो गए हैं और अब जिले में ही 1000 मरीजों के इलाज की व्यवस्था की जिला प्रशासन ने तैयारियां की है। जिलाधिकारी संजीव सिंह व उनकी टीम द्वारा कोरोना संक्रमण को कम करने एवं लोगों को इससे बचाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं लेकिन जनपदवासियों की बेपरवाही, उदासीनता, मनमानी, संवेदनहीनता किसी से छिपी नहीं है। जिले की 29 लाख की आबादी में ज्यादातर कोरोना वायरस के मरीज शहरी व कस्बाई क्षेत्रों के हैं जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि शाहरियों ने संक्रमण को बढ़ाने में अपना कितना योगदान दिया है! प्रशासन के द्वारा बार-बार कहने के बावजूद लोगों की मनमानी व बेपरवाही बंद नहीं हो रही है।खुलेआम लोग घूम रहे हैं, पार्टियां कर रहे हैं और नियम कायदों की धज्जियां उड़ा रहे हैं।इतना सब करने वाले हमारे आपके बीच के लोग प्रशासनिक कार्यप्रणाली पर उंगली उठाते हैं!क्या यह हमारे लिए आत्मचिंतन का विषय नहीं है? सड़कों पर जो लोग बेलौस अंदाज में निकल रहे हैं। आखिर वह लोग हैं कौन* हमें इसे समझना होगा!वैश्विक महामारी बन चुके कोरोना की जंग को विकसित देश नहीं जीत पा रहे हैं। हम तो उन हालातों में रह रहे हैं जहां आज भी लोग बिजली, पानी, सड़क, स्वास्थ्य व शिक्षा की मूलभूत जरूरतों से संघर्ष कर रहे हैं। *इस महामारी से बचने के लिए एक ही मूलमंत्र है कि हम एकजुट हों, अपने उत्तरदायित्व को समझें, बेवजह घरों के बाहर ना निकलें, घर से निकलने पर मास्क लगाएं व मुंह ढक कर निकलें, सामाजिक दूरी का पालन करें तथा साफ-सफाई का घर व बाहर ध्यान रखें! तभी इस महामारी से बचा जा सकेगा।
अन्यथा हालात दिन-ब-दिन बिगड़ते जाएंगे मरीजों की संख्या बढ़ती जाएगी और वह समय दूर नहीं रहेगा जब मौत के आगोश में भी जाने का सिलसिला शुरू हो जाएगा।अभी भी समय है! हम सचेत हों और शासन-प्रशासन के नियमों का पालन कर प्रशासन का सहयोग करें। यहां यह कहना भी जरूरी है कि सरकारी व्यवस्थाओं में सुधार की भी बड़ी गुंजाइश है।स्वास्थ्य महकमा अपने उत्तरदायित्वों का सही निर्वहन नहीं कर रहा है।पर्याप्त साफ सफाई नहीं हो पा रही है।हॉट स्पॉट क्षेत्रों में लोगों से और सख्ती की जरूरत है। वहीं घर-घर सर्वे वाली टीमें बिना जांच के ही स्टिकर लगाकर अपने काम की इतिश्री कर रही हैं। सभी को अपने अपने उत्तरदायित्वों एवं कर्तव्यों का निर्वहन जिम्मेदारी से करना होगा ना कि कागजी खानापूरी के लिए।फिलहाल जिलाधिकारी संजीव सिंह ने हॉटस्पॉट क्षेत्र, नए मरीज मिलने, उनकी भर्ती, निगरानी, एंबुलेंस सैनिटाइजेशन, साफ सफाई, बैरिकेडिंग आदि के होने वाले कामों की निगरानी के लिए नोडल अधिकारी लगा दिए हैं। जो हर दिन की रिपोर्ट उन्हें दे रहे हैं और जिलाधिकारी प्रशासनिक,पुलिस, नगरपालिका एवं स्वास्थ्य विभाग केअधिकारियों कर्मचारियों  के साथ सड़कों पर उतर व्यवस्थाओं का जायजा ले रहे हैं। बावजूद इसके एक बार फिर कोरोना संक्रमण से बचाओ हम सब को ही करना होगा।