ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
कोरोना संक्रमण फैला सकती हैं शहर मे बनने वाली  फिल्म
October 4, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

कोरोना संक्रमण फैला सकती हैं शहर मे बनने वाली  फिल्म

बांदा।एक तरफ जहां सूबे की योगी सरकार कोरोना को पूरी तरह से रोकने में नामक साबित हो रही हैं और कोरोना लगातार बढ़ता ही जा रहाहै । जबकि उत्तर प्रदेश का पुलिस प्रशासन मास्क लगाकर न चलने पर  लोगों की गाड़ियों के चालान काटते घूम रहे हैं  । लाक डाउन खुलने के बाद से पूरे प्रदेश में अभी तक लगभग 85 करोड से ज्यादा का राजस्व लोगों से जबरन वसूल कर सरकार के खाते मे जमा किया गया है । सरकार द्वारा लोगों को कोरोना से बचाने के लिये अभी भी लगातार भीड़ को इकट्ठा होने से रोकने के लिए कई कड़ी पाबंदियां लगाई गई है ताकि कोरोना के चक्र को तोड़ा जा सके लेकिन इसके बावजूद बाँदा जिला प्रशासन की घोर लापरवाही सामने आई है। जहाँ प्रशासन के आदेशो का अनुपालन न करते हुए लगभग एक सप्ताह से शहर में फिल्म की सूटिग की जा रही है ।जहाँ खुद प्रशासन द्वारा  बनाये गये नियमों को दरकिनार करते हुए खुद फिल्म में काम करने वाले लोग भी मास्क लगाए हुए और सनराइज करते हुए कहीं भी दिखाई नहीं दे रहे हैं ।आपको बता दें कि जिस तरीके से करो ना लगाता अपना पैर पसार रहा है उससे बचने के लिए लोगों को अभी और सतर्क होना पड़ेगा वैसे तो सरकार लगातार लोगों को कोरोनावायरस ने के लिए बराबर मास्क लगाने हुआ सोशल डिस्टेंसिंग की बात बताई जा रही है लेकिन इसके बावजूद भी प्रशासन द्वारा एक भोजपुरी फिल्म के निर्माण के लिए इस कोरोना के समय परमिशन लेकर कोरोना जनपद में और बढ़ाने का काम किया जा रहा है फिल्म के निर्देशक द्वारा जिलाधिकारी को लिखे पत्र में मास्क लगाए रखने वह सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन करने की बात फिल्म निर्माण के दौरान फिल्म से जुड़े लोगों के लिए कहीं गई लेकिन इसके बावजूद भी फिल्म निर्माण में जुड़ा हुआ कोई भी व्यक्ति शूटिंग के दौरान मास्क लगाए हुए कहीं भी दिखाई नहीं देता वही फिल्म की शूटिंग देखने के लिए गांव और शहर में लोगों का विशाल जनसमुदाय इकट्ठा हो रहा है जो मास्क ना लगाते हुए खुलेआम सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं ।  जिस तरीके से लोगों की भीड़ फिल्म की शूटिंग देखने के लिए इकट्ठे हो रही है और अगर इस पर समय रहते हो रोक ना लगाई गई तो जिले में बनने वाली यह भोजपुरी फिल्म पूरे जनपद को कोरोना बम  की तरह संक्रमण को फैलाने में सहायक हो सकती है । इस संदर्भ में जौरही गांव के पुरुषोत्तम सिंह ने बताया कि जिस तरीके से भोजपुरी फिल्म के निर्देशक वह एक्टर पदम सिंह अपने फिल्म स्टाफ के साथ बिना मेरी परमिशन के मेरे घर पर मेरे परिवार और पिता को बेवकूफ बनाकर शूटिंग कर रहे हैं  जो सरासर गलत है । इस संदर्भ में जिलाधिकारी बाँदा सहित मुख्यमंत्री को भी पत्र लिखकर तत्काल इस फिल्म की शूटिंग पर रोक लगाए जाने के लिए पत्र भेजा गया है । एक ओर जहां पूरा प्रदेश कोरोना जैसी भयानक महामारी से जूझ रहा है वही भोजपुरी फिल्म के निर्माता पदम सिंह व हीरो खेसारी लाल यादव और उनके साथ नायिका के रूप में काम कर रही  काजल को देखने के लिए गांव में भारी भीड़ एकत्र हो रही है इन कलाकारों के द्वारा भी मास्क का प्रयोग नहीं किया जा रहा है ।और कहीं भी सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन नहीं किया जा रहा है ।जबकि जिला अधिकारी से अनुमति लेते समय फिल्म के निर्देशक ने प्रशासन को इस बात की गारंटी दी थी की सरकार द्वारा निर्धारित सभी नियमों का अच्छे से अनुपालन किया जाएगा लेकिन परमीशन मिलने के बाद प्रशासन द्वारा निर्धारित किसी भी नियम का कोई भी अनुपालन फिल्म यूनिट के द्वारा नहीं किया जा रहा है जिससे जनपद में कोरोना वायरस संक्रमण को रोकना लगभग नामुमकिन होता जा रहा है ।