ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
कोरोना के इलाज के लिए सरकार के योग और आयुर्वेदिक इलाज की मंजूरी पर आईएमए ने जताई नाराजगी
October 9, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

कोरोना के इलाज के लिए सरकार के योग और आयुर्वेदिक इलाज की मंजूरी पर आईएमए ने जताई नाराजगी

(न्यूज़)।कोरोना के इलाज के लिए सरकार ने आयुर्वेदिक इलाज को मंजूदी दे दी है।हालांकि सरकार ने कहा है कि बिना लक्षण और मामूली लक्षण वाले मरीज आयुर्वेद और योग के जरिए कोरोना का इलाज कर सकते हैं। सरकार ने इसकी औपचारिक मंजूरी दे दी है।हालांकि सरकार ने इस फैसले पर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने नाराजगी जताई है।एसोसिएशन ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से इस बारे में कई सवाल किए हैं।बता दें कि देश में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन डॉक्टर्स की सबसे बड़ी संस्था है।आईएमए ने डॉ. हर्षवर्धन से पूछा कि केंद्र सरकार ने किस आधार पर आयुष के जरिए इलाज कराने की मंजूरी दी है?एसोसिएशन ने बताया कि स्वास्थ्य मंंत्रालय ने बिना लक्षण और मामूली लक्षण वाले कोरोना मरीजों को योग और आयुर्वेद के जरिए इलाज कराने की मंजूरी दे दी है।आईएमए ने बताया कि इसके समर्थन में और भी कई संस्थान आए हैं।आईएमए ने बताया कि डॉ. हर्षवर्धन मानते हैं कि आयुर्वेदिक दवाएं, आधुनिक दवाओं की आधारशिला का ही हिस्सा हैं तो ऐसे में केंद्र सरकार ने यह फैसला कैसे लिया।आईएमए ने केंद्र सरकार से पूछा कि क्या उनके पास आयुर्वेद या योग के जरिए कोरोना के इलाज को लेकर किए गए किसी अध्ययन से जुड़े कोई संतोषजनक सबूत हैं? संगठन ने पूछा कि सरकार के कितने मंत्रियों और सहयोगियों ने खुद आयुर्वेद और योग से अपना इलाज करवाया है।