ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
कोरोना काल में दब गए अधूरे विकास के मुद्दे
June 23, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश


9 साल से अधूरा पड़ा बिंदकी की बाईपास
बिंदकी फतेहपुर

पिछले 9 वर्ष से अधूरा पड़ा बिंदकी बाईपास का मुद्दा समय-समय पर चलता रहा है शासन प्रशासन के लोग भी कभी-कभी इस मुद्दे पर फर्ज अदायगी करते थे लेकिन पिछले 3 महीने से कोरोना काल के दौरान यह मुद्दा पूरी तरह से दब कर रह गया है। बाईपास अधूरा होने के कारण लोगों को निकलने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है इस बात को लेकर लोगों में शासन और प्रशासन के प्रति लगातार नाराजगी बनी हुई है
शासन प्रशासन और जनता के सेवक चाहे जो दावे करें लेकिन जमीनी हकीकत और भी बयां करती है जिसका जीता जागता उदाहरण पिछले 9 वर्ष से अधूरा पड़ा बिंदकी बाईपास है। वर्ष 2011 में जब उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी की सरकार थी उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती थी तथा नसीमुद्दीन सिद्दीकी लोक निर्माण विभाग सहित कई प्रमुख विभागों के कैबिनेट मंत्री थे उनके कार्यकाल में करीब 5 किलोमीटर लंबाई यह बाईपास बनना प्रारंभ हुआ था यह बाईपास खिदिरपुर गांव के पास जय गुरुदेव मंदिर के निकट से प्रारंभ हुआ था और जाफराबाद के पास से होते हुए कुंवरपुर रोड पार करने के बाद जनता गांव के पास से होते हुए मुरादपुर गांव के निकट से मां ज्वाला देवी मंदिर के पास मिलना था। यह बाईपास करीब 8 करोड़ रुपए की कीमत से बन्ना प्रारंभ हुआ था इस बाईपास के निर्माण में जाफराबाद जनता बिंदकी कोहना आदि गांव के 300 से अधिक ग्रामीणों की जमीन लिया जाना था जिसमें अधिकांश लोगों की रजिस्ट्री हो चुकी है कुछ लोगों की जमीन की रजिस्ट्री होना बाकी है जिसके चलते पिछले 9 वर्ष से यह बाईपास अधूरा पड़ा हुआ है बहुजन समाज पार्टी की सरकार जाने के बाद उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार पूरे 5 साल नहीं लेकिन इस मुद्दे को लेकर पूरी तरह से समाजवादी पार्टी के नेता निष्क्रिय नजर आए उसका नतीजा रहा कि पूरे 5 साल में बाईपास के नाम पर समाजवादी पार्टी की सरकार द्वारा रंच मात्र काम नहीं किया गया था इसके बाद उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बने जिसके चलते थोड़ा काम यह हुआ की केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति तथा कारागार राज मंत्री जय कुमार सिंह की मौजूदगी में मां ज्वाला देवी मंदिर के पास जो बाईपास अधूरा था उस बाईपास को पूरा कराया गया लेकिन अभी भी कुंवरपुर रोड में कुंदनपुर गांव के समीप बाईपास अधूरा पड़ा हुआ है यह स्थान वह मुश्किल 200 मीटर अधूरा पड़ा होगा लेकिन फिलहाल अभी तक भारतीय जनता पार्टी की सरकार में इस स्थान पर रंच मात्र काम नहीं हो पाया है हालांकि सत्ता पक्ष के लोग तथा प्रशासनिक अधिकारी तथा लोक निर्माण विभाग के अधिकारी समय-समय पर मौके का निरीक्षण कर फर्ज अदायगी करते रहे लेकिन वही कारगर निर्णय नहीं हो पाया जिसके चलते यह बाईपास अधूरा है लोगों को आने जाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है इस बात को लेकर लोगों में नाराजगी का माहौल है जाफराबाद गांव निवासी सुशील कुमार ने कहा कि उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार के बने 3 साल पूरे हो गए हैं लेकिन थोड़ी दूर में ही यह बाईपास अधूरा पड़ा है जिसको लेकर आने जाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है निश्चित रूप से शासन प्रशासन को और जनप्रतिनिधियों को इस मामले को गंभीरता से लेना चाहिए