ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
केरल सोना तस्करी मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने एम शिवशंकर से की लंबी पूछताछ
October 11, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 केरल सोना तस्करी मामले में कस्टम विभाग ने शनिवार को मुख्यमंत्री के पूर्व प्रमुख सचिव एम शिवशंकर से 11 घंटे तक पूछताछ की। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने हाल ही में विशेष न्यायालय में चार्जशीट दाखिल करते हुए कहा था कि सोना तस्करी मामले में शिवशंकर एक अहम कड़ी हैं। इसलिए, उनसे पूछताछ जरूरी है।

भाजपा समेत कई विपक्षी दल केरल सरकार के खिलाफ खोले हुए हैं मोर्चा

बता दें कि राजनयिक सामान के साथ 30 किलोग्राम सोना तिरुअनंतपुरम हवाई अड्डे से बरामद किया गया था। इस मामले में मुख्य आरोपित स्वप्ना सुरेश सहित कई लोगों को अब तक गिरफ्तार किया जा चुका है। इस मामले में आतंकी कनेक्शन सामने आने के बाद इसकी जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) भी कर रही है। इस मुद्दे को लेकर भाजपा सहित कई अन्य विपक्षी दल सरकार के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं।

स्वप्ना सुरेश के लिए लॉकर खुलवाने की गई व्यवस्था

ईडी तस्करी के मामले में मनी ट्रेल की जांच में जुटी है। ईडी ने कहा है कि शिवशंकर की गहन जांच जरूरी है, क्योंकि उसी ने स्वप्ना सुरेश के लिए लॉकर खुलवाने की व्यवस्था की थी। राष्ट्रीयकृत बैंक में लॉकर का इस्तेमाल स्वप्ना तस्करी से हुए लाभ को छिपाने के लिए किया करती थी। स्वप्ना, सरित पीएस और संदीप नायर समेत तीन आरोपितों के खिलाफ पीएमएलए मामले को लेकर विशेष कोर्ट में दाखिल अंतरिम आरोपपत्र में ईडी ने यह जानकारी दी है।

पिनराई विजयन से छह बार मिली थी स्वप्ना सुरेश

केरल के सोना तस्करी मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने विशेष अदालत में अंतरिम आरोप पत्र दाखिल किया। इसके मुताबिक मामले की मुख्य आरोपित स्वप्ना सुरेश ने मुख्यमंत्री पिनराई विजयन से छह बार मुलाकात की थी और वह उसकी नियुक्ति के बारे में जानते थे। यह तथ्य सामने आने के बाद भाजपा और कांग्रेस ने मुख्यमंत्री से इस्तीफे की मांग की है।