ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
कर्मचारी अधिकारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा उत्तर प्रदेश परिवहन निगम ने 7 सूत्री मांग पत्र की पूर्ति हेतु दिया ज्ञापन
November 20, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

कर्मचारी अधिकारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा उत्तर प्रदेश परिवहन निगम ने 7 सूत्री मांग पत्र की पूर्ति हेतु दिया ज्ञापन।

फतेहपुर।।

 आज प्रदेश भर में परिवहन विभाग के कर्मचारियों ने 12:00 बजे से लेकर 1:00 बजे तक गेट मीटिंग के माध्यम से सरकार द्वारा दमनकारी नीतियां एवं निजी करण के विरोध में अपनी मांगे मनवाने के लिए 7 सूत्री ज्ञापन देकर विरोध प्रदर्शन किया 7 सूत्री मांगों में मुख्यतः
- अवैध रूप से चल रहे डग्गामार वाहनों का संचालन बंद किया जाए कुबेरपुर- नोएडा- लखनऊ सहित 206 मार्गों को एक्सप्रेसवेज व हाईवेज को राष्ट्रीय कृत मार्ग घोषित किया जाए।
- 2001 तक नियुक्त समस्त संविदा कर्मियों, चालकों व परिचालकों को नियमित किया जाए।
- सीधी भर्ती के सभी संवर्ग में रिक्त पदों को नियमित नियुक्ति द्वारा भरा जाए।
- बकाया महंगाई भत्ते की किस्तों का देय दिनांक से भुगतान कराया जाए तथा न्यूनतम मजदूरी का भुगतान सुनिश्चित किया जाए।
- मृतक आश्रितों को नियमित नियुक्ति प्रदान की जाए।
- परिवहन निगम के कर्मचारियों  का सेवा लाभ न्यूनतम है अतः सेवानिवृत्ति के उपरांत पेंशन दी जाए तथा सेवानिवृत्ति के 4 वर्ष उपरांत तक सही एवं कथानक आधारित कार्यवाही हो।
- किसी भी दशा में पूर्व की भांति ही इसे राजकीय रोडवेज घोषित किया जाए।।

अपनी इन्हीं 7 मांगों को पूरा करवाने के लिए आज फतेहपुर में भी रोडवेज  कर्मियों ने गेट मीटिंग के माध्यम से सरकार  तक अपना संदेश भेजने का प्रयास किया। इस प्रदर्शन में मुख्य रूप से प्रबंधक श्री  एम. एल. केसरवानी, इजहार अहमद, जय चंद्र प्रकाश, बीएस बाजपेई, राजकुमार ,प्रमेश सिंह, प्रेमशंकर, अभिषेक कुमार, महेंद्र प्रताप, जेपी शुक्ला, रियाज अली, राकेश कुमार, कासिम अली एवं समस्त कार्यशाला कार्मिक चालक, परिचालक उपस्थित रहे।