ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
कांग्रेस रहेगी उपचुनाव में आक्रामक, तेज किए भाजपा और सिंधिया पर हमले
July 9, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • राजनीति

भोपाल। मध्य प्रदेश के 24 विधानसभा क्षेत्रों में होने जा रहे उपचुनाव के लिए कांग्रेस आक्रामक रणनीति अपनाएगी। महाकाल में पूजा-अर्चना कर पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने चुनावी शंखनाद किया और बदनावर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और ज्योतिरादित्य सिंधिया ही नहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सीधे हमले किए। इसी तरह सांवेर में जीतू पटवारी ने भी भाजपा के संभावित प्रत्याशी तुलसीराम सिलावट को क्षेत्र में नहीं घुसने देने की लोगों से अपील की है। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने सिंधिया समर्थक रहे रामनिवास रावत पर श्योपुर जिला प्रशासन की कार्रवाई को लेकर ग्वालियर-चंबल संभाग में चुनावी चुनौती के लिए सड़क पर उतरने की चेतावनी दी है।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के महासचिव और प्रदेश प्रभारी मुकुल वासनिक की दो दिन की बैठकों का नतीजा उपचुनाव के शंखनाद की सभाओं में देखने को मिला। इससे साफ हो गया है कि उपचुनाव में कांग्रेस आक्रामक ढंग से भाजपा पर हमले करने वाली है। बदनावर में पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, ज्योतिरादित्य सिंधिया को घेरा। हालांकि उन्होंने इन लोगों का नाम लेने से परहेज किया। तालियां बटोरने के लिए कमल नाथ ने टाइगर, मामा और चाय बेचने वाले का संबोधन किया।

ग्वालियर-चंबल में सड़क पर उतरने की दिग्विजय की चेतावनी

राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह ने ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में सड़क पर उतरने की चेतावनी दे दी है। रामनिवास रावत के विरद्ध श्योपुर जिला प्रशासन की कार्रवाई को लेकर दिग्विजय ने यह चेतावनी दी है। जबकि पीसीसी अध्यक्ष कमल नाथ ने बुधवार को रावत ही नहीं ग्वालियर के वरिष्ठ कांग्रेस नेता अशोक सिंह के खिलाफ सरकार की कार्रवाई पर बयान देकर भाजपा पर गलत परंपरा शुरू करने के आरोप लगाए हैं।

जीतू ने कहा, कर्ज माफी नहीं हो तो सिलावट को नहीं घुसने दें

कांग्रेस की आक्रामक चुनावी रणनीति का अंदाज पूर्व मंत्री जीतू पटवारी के सांवेर क्षेत्र के लोगों को मंत्री तुलसीराम सिलावट के खिलाफ प्रेरित करने के संबोधन से लगाया जा सकता है। उन्होंने मंत्री सिलावट को लेकर क्षेत्र के लोगों से कहा कि अगर उपचुनाव के पहले कर्ज माफी नहीं हो तो वे उन्हें गांव में नहीं घुसने दें।