ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
जनपद में मेडिकोलीगल की समस्या को लेकर जिला अस्पताल में गरजा गुलाबी गैंग
October 5, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

जनपद में मेडिकोलीगल की समस्या को लेकर जिला अस्पताल में गरजा गुलाबी गैंग

पंद्रह दिन के अंदर यदि रेडियोलाजीस्ट की तैनाती नहीं की जाती तो जनहित में हमारा जनसंगठन जी.टी रोड जाम कर धरना प्रदर्शन को बाध्य होगा : हेमलता पटेल

फतेहपुर।सोमवार को गुलाबी गैंग लोकतान्त्रिक अध्यक्ष हेमलता पटेल के नेतृत्व में संगठन की महिलाएं जिला अस्पताल पहुंची। जनपद में ठप पड़ी मेडिकोलीगल सुविधा को प्रारम्भ किये जाने  की मांग को लेकर महिलाओं नें आवाज बुलंद की।संगठन की महिलाओं नें महिला उत्पीड़न के खिलाफ भी जमकर नारेबाज़ी की। इस दौरान  मेडिकोलीगल एवं महिला उत्पीड़न की समस्या के निस्तारण हेतु  2  सूत्रीय ज्ञापन सदर कोतवाल रवींद्र श्रीवास्तव के माध्यम से मुख्य चिकित्सा अधिकारी के द्वारा  राज्यपाल को प्रेषित किया  गया। महिलाओं नें कहा  की " पूर्व में तैनात रेडियोलाजिस्ट डॉक्टर मनुगोपाल को  भ्रष्टाचार के कारण निलंबित करके सदर अस्पताल से हटाकर  मुख्यालय लखनऊ से सम्बद्ध किया गया था लगभग 28 माह बाद अब तक रेडियोलाजिस्ट की तैनाती ना होने के कारण मेडिकोलीगल हेतु घायल मरीजो को 100 किलोमीटर दूर कौशांबी अपने निजी खर्चे से जाना पड़ता है और शासन, प्रशासन आँख मूंदे हुए है जिसे अब जनता के हित में बर्दास्त नहीं किया जायेगा। दूसरी मांग हमारी यह है की आये दिन महिला उत्पीड़न, रेप, हत्या के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं  इसके विरुद्ध ठोस कदम तत्काल उठाया जाये जिससे हाथरस जैसे घटना की पुनरावृति ना हो एवं हाथरस के  पीड़ित परिवार को न्याय मिले हमारी ये मांगे है। इस दौरान अध्यक्ष हेमलता पटेल ने कहा की " यह हमारा सांकेतिक प्रदर्शन है, हमें आशा है जनपद में मेडिकोलीगल की समस्या का निवारण अतिशीघ्र किया जायेगा एवं महिला उत्पीड़न के विरुद्ध भी  ठोस कदम उठाये जायेंगे। पंद्रह दिन के अंदर यदि रेडियोलाजिस्ट की तैनाती नहीं की जाती है तो हम जी. टी  रोड में बैठकर धरना प्रदर्शन करने हेतु बाध्य होंगे जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी शासन, प्रशासन की स्वयं होगी,  हम व हमारा संगठन समाजहित संघर्ष हेतु सदैव तत्पर है। इस दौरान  सरला सिंह, रानी, राजरानी, प्रीती, सुनीता, तारा, सोमवती, शहरन, रेखा, ऊषा, संतोषी, लक्ष्मी आदि सैकड़ो महिलाएं मौजूद रहीं।