ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
जनपद के विकास के लिए बुन्देलखण्ड अलग राज्य की मांग हुई तेज
October 12, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

जनपद के विकास के लिए बुन्देलखण्ड अलग राज्य की मांग हुई तेज

 बुन्देलखण्ड राष्ट्र समिति का प्रथम जन आंदोलन

फतेहपुर। बुन्देलखण्ड राष्ट्र समिति ने प्रथम जनांदोलन घघौरा सैबसी से शुरू किया गया जहां पर भारी मात्रा में जन सैलाब उमड़ा।जनांदोलन के केंद्र में फतेहपुर जनपद को बुन्देलखण्ड को मिलने वाले तमाम पैकेजों में शामिल कराने पर जोर दिया गया। जनांदोलन के आयोजक बीआरएस के अयाहशाह विधानसभा अध्यक्ष अमित सिंह कछवाहा ने उद्देश्य को सफल किया। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि बीआरएस संस्थापक इं प्रवीण पाण्डेय ने लोगो को बुन्देलखण्ड अलग राज्य बनने से जनपद को मिलने वाले फायदे बताये उन्होंने कहा कि जनपद फतेहपुर को चित्रकूट धाम मंडल में शामिल किया जाय तभी जनपद को वास्तविक लाभ मिल पायेगा। पूरे जनपद में अनगिनत आंदोलन की हुंकार भरते हुए बीआरएस के जिलाध्यक्ष युवा नेता अंशू सिंह परमार ने लोगो को इतिहास में नाम दर्ज कराने के लिए तैयार रहने को कहा। जिलाउपाध्यक्ष धीरेन्द्र प्रताप सिंह चंदेल धीरु भैया ने आये जनमानस को जयजय बुन्देलखण्ड के नारों से जोश में भर दिया, वही सदर विधानसभा अध्यक्ष श्रेष्ठ रस्तोगी ने जनांदोलन में आव्हान किया कि बुन्देलखण्ड के विकास को लेकर शासन एवं प्रशासन को ज्ञापन देने का अभियान चलाकर  उत्तर प्रदेश से अलग राज्य बुन्देलखण्ड बनाने की मांग करेंगे। बुन्देलखण्ड के हर कदम पर लगातार टीम तिरंगा की उपस्थिति रहती है आज भी पूरी टीम घघौरा सैबसी उपस्थित रही  बीआरएस के जनांदोलन में आये भाजपा से आये आदित्य त्रिवेदी एवं अजय त्रिवेदी ने कहा कि भाजपा हमेशा छोटे राज्यों को पछधर रही है और उन्हें विश्वास है को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी बुन्देलखण्ड अलग राज्य बनाने का वादा जरूर पूरा करेंगे।बुन्देलखण्ड राष्ट्र समिति के प्रथम जनांदोलन घघौरा सैबसी में प्रशान्त रस्तोगी, अमित, शिवम,अभिषेक, अखिलेश, महेश, अंशू सिंह, एडवोकेट सुनील दीक्षित, रामभवन, संतोष, हर्षवर्धन, सचिन आदि जनपद के वरिष्ठ बुद्धिजीवी और युवा उपस्थिति रहे। बीआरएस के राष्ट्रीय प्रवक्ता देवब्रत त्रिपाठी ने बताया कि अलग जनांदोलन बिंदकी तहसील में रखा जाएगा और सभी जनपदों के सांसद, विधायकों एवं जिलाधिकारी को ज्ञापन देने का अभियान भी किया जाएगा।