ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
इंदौर के उद्यमियों का नवाचार, तैयार किए मच्छर और मक्खियों से बचाने वाले कपड़े
October 14, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

इंदौर, मध्य प्रदेश के इंदौर शहर के दो युवा उद्यमियों ने कपड़ा तकनीक के क्षेत्र में ऐसा फॉर्मूला खोज लिया है, जो मच्छर, मक्खियों और चींटियों की समस्या से निजात दिलाता है। उनका दावा है कि इस फॉर्मूले से बनाए गए कपड़े 50 धुलाई तक काम करते हैं यानी इन कीटों को दूर रखने में कारगर रहते हैं। युवा उद्यमी श्रेष्ठा और मयूर मालपानी ने साल 2017 में 'क्लोदिंग इनोवेशन' नाम से कंपनी शुरू की थी। इनकी फैक्ट्री में कपड़ों के विशेष ट्रीटमेंट के लिए जो 'आर्मर टेक्नोलॉजी' उपयोग की जाती है, उसका पेटेंट कराने के लिए आवेदन किया हुआ है।मालपानी ने उम्मीद जताई कि उनकी इस खोज की बदौलत पारंपरिक रिपेलेंट्स यानी मच्छर दूर रखने वाले क्रीम या स्प्रे की जरूरत नहीं रह जाएगी। दरअसल, यह एक ऐसा स्टार्टअप है जो सिल्क और वेलवेट के अतिरिक्त अन्य तमाम तरह के कपड़ों के विशेष ट्रीटमेंट उपलब्ध कराता है। इसके अलावा यह स्टार्टअप बच्चों और वयस्कों के लिए इंसेक्ट रिपेलेंट (कीट दूर भगाने वाले), एंटी माइक्रोबियल और एंटी बैक्टीरियल कपड़े भी बेचता है।

यह है आर्मर टेक्नोलॉजी

'क्लोदिंग इनोवेशन' की नींव भारतीय प्रबंध संस्थान (IIM) बेंगलुर के स्टार्टअप हब एनएसआरसीईएल में पड़ी थी। यहां कंपनी के सह-संस्थापकों ने करीब डेढ़ साल शोध करके लास्टिंग फॉर्मूलेशन डेवलप किया, जिसे अब उन्होंने आर्मर इंसेक्ट रिपेलेंट फॉर्मूलेशन नाम दिया है। मालपानी के मुताबिक उनका स्टार्टअप सिंथेटिक रूप में जो इंसेक्ट रिपेलेंट इस्तेमाल करता है वह प्राकृतिक रूप से कुछ फूलों में मिलता है। इसके जरिये सामान्य कपड़ों को ट्रीट करने और उन्हें इनसेक्ट-रिपेलेंट वेरिएंट में तब्दील करने के लिए कंपनी ने नैनो टेक्नोलॉजी आधारित एन्कैप्सुलेटिंग प्रक्रिया तैयार की है।